देवभूमि का मर्म

"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"


BREAKING NEWS:-हमारी वेबसाइट पर विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें 9719069776

Friday, 30 September 2022

राष्ट्रीय खेलों में चमकी खटीमा की बेटी, जीता रजत पदक

No comments :
खटीमा के टिगरी भूडाइ निवासी रेखा सिंह खाती ने गुजरात मे चल रहे 36 वे राष्ट्रीय खेलों में रजत पदक जीतकर खटीमा के साथ ही उत्तराखण्ड का भी नाम रोशन किया है।रेखा ने महिलाओ की हैमर थ्रो प्रतियोगिता में कुल 59.51 मीटर हैमर फैँक कर रजत पदक अपने नाम किया, रेखा स्पोर्ट्स कोटे के तहत रेलवे में नौकरी करती है, उनके पिता राजेंद्र सिंह खाती सेना से सूबेदार कलर्क के पद पर रिटायर्ड हैं जबकि माता मनोरमा देवी गृहणी हैं उनके भाई गोविंद सिंह भी राष्ट्रीय स्तर के खिलाडी और ऐथलेटिक्स कोच हैं।खेल की विभिन्न बारीकियाँ रेखा ने भाई से ही सीखीं हैं।रेखा की इस उपलब्धि पर खटीमा सहित पूरे उत्तराखण्ड मे खुशी का माहौल है।

Saturday, 24 September 2022

ऋतु खंडूड़ी ने उठाई राजस्व पुलिस व्यवस्था खत्म करने की मांग,मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

No comments :
उत्तराखंड के बहुचर्चित अंकिता हत्याकांड के बाद स्पीकर ऋतु खंडूरी ने लिखा मुख्यमंत्री धामी को पत्र, राजस्व पुलिस व्यवस्था समाप्त करने की उठाई मांग।
उन्होंने मांग की है कि प्रदेश में जहाँ-कहीं भी राजस्व पुलिस की व्यवस्था चली आ रही है, उन्हें तत्काल समाप्त कर सामान्य पुलिस बल के थाने / चौकी स्थापित करने की मांग की, इस विषय पर उन्होंने मुख्यमंत्री धामी  को पत्र लिखा है।
उत्तराखंड में कुल नौ पर्वतीय व चार मैदानी ज़िले हैं. ब्रिटिश राज में यहां पटवारी पुलिस यानी राजस्व पुलिस की व्यवस्था शुरू हुई थी, जिसके मुताबिक राजस्व क्षेत्रों में होने वाले हर किस्म के अपराध की जांच राजस्व पुलिस ही करती है. उत्तराखंड के सिर्फ 40 प्रतिशत हिस्से में सिविल पुलिस है और राजस्व पुलिस के क्षेत्र में बीते कुछ सालों में अपराध का ग्राफ बढ़ता रहा है. चूंकि ब्रिटिश राज में यहां अपराध बहुत कम थे इसलिए रेवेन्यू पुलिस सिस्टम बनाया गया था, जो अब प्रासंगिक नहीं रहा.

2018 में उत्तराखंड हाई कोर्ट ने इस व्यवस्था को समाप्त करने के आदेश दिए थे, लेकिन कई साल बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है. 2013 में केदारनाथ में आपदा के समय तत्कालीन सीए विजय बहुगुणा ने कहा था कि यदि पहाड़ी इलाकों में रेगुलर पुलिस की व्यवस्था होती तो आपदा से होने वाला नुकसान कम होता. ज़रूरत तो कई बार महसूस की जा चुकी है कि रेवेन्यू पुलिस सिस्टम को खत्म किया जाए, लेकिन फिलहाल यह जस की तस बनी हुई है.

उत्तराखंड राज्य का 61 प्रतिशत हिस्सा आज भी ऐसा है, जहां न तो कोई पुलिस थाना है, न कोई पुलिस चौकी और न ही यह इलाका उत्तराखंड पुलिस के क्षेत्राधिकार में आता है। यहां आज भी अंग्रेजों की बनाई वह व्यवस्था जारी है, जहां पुलिस का काम रेवेन्यू डिपार्टमेंट के कर्मचारी और अधिकारी ही करते हैं। इस व्यवस्था को ‘राजस्व पुलिस’ कहा जाता है। उत्तराखंड के 12 हजार से अधिक गांव राजस्व पुलिस के क्षेत्र में आते हैं।
शुरूआत में गढ़वाल में 86 और कुमाऊं में 125 पटवारी क्षेत्रों में राजस्व पुलिस चौकियां थीं।

 पटवारी, लेखपाल, कानूनगो और नायब तहसीलदार जैसे कर्मचारी और अधिकारी ही यहां रेवेन्यू वसूली के साथ-साथ पुलिस का काम भी करते हैं। कोई अपराध होने पर इन्हीं लोगों को एफआईआर भी लिखनी होती है, मामले की जांच-पड़ताल भी करनी होती है और अपराधियों की गिरफ्तारी भी इन्हीं के जिम्मे है। जबकि इनमें से किसी भी काम को करने के लिए इनके पास न तो कोई संसाधन होते हैं और न ही इन्हें इसकी ट्रेनिंग मिलती है।
1861 में ब्रिटिश राज के दौरान यहां पहाड़ी ज़िलों में रेवेन्यू पुलिस सिस्टम शुरू हुआ था, जिसके तहत राजस्व अधिकारियों को पुलिस के बराबर अधिका​र ​हासिल थे और वो किसी भी केस की जांच कर सकते थे. करीब 160 साल और ब्रिटिशों से देश को आज़ादी मिलने के 73 साल बाद भी उत्तराखंड में यह व्यवस्था बनी हुई है? 

Friday, 23 September 2022

नकली सीमेंट फैक्ट्री के बाद अब नकली मोबिल ऑयल फैक्ट्री पकड़ी ऊधमसिंह नगर पुलिस ने

No comments :

 दिलीप कुमार पुत्र साहब प्रसाद सीनियर इन्वेस्टिगेशन ऑफीसर ब्रॉड  एडी एंड रिस्क मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी निवासी झंडेवालान स्टेशन नई दिल्ली जो कैस्ट्रोल ऑयल लुब्रिकेंट कंपनी  उत्पादों प्लास्टिक के मार्केट में सर्वे व नकली इंजन ऑयल बनाने व बेचने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के लिए अधिकृत किया गया है के द्वारा कोतवाली बाजपुर पुलिस को सूचना दी कि बाजपुर क्षेत्र अंतर्गत रिलायंस पेट्रोल पंप के पास एक व्यक्ति शकीर कादिर सिद्धकी पुत्र कादिर सिद्धकी द्वारा अपनी दुकान पर नकली कैस्ट्रोल इंजन ऑयल को बनाने और बेचने आदि के संबंध में सूचना दी गई जिस पर बाजपुर पुलिस द्वारा उक्त दुकान पर छापेमारी की गई तो दुकान चला रहा व्यक्ति शकीर फरार हो गया दुकान खुली होने पर दुकान को चेक किए जाने पर नकली मोबिल ऑयल के 5 ड्रम 210 लीटर व 1 फुल सेट ऑयल लुब्रिकेंट मशीन, एक सेट सील मशीन, एक बोतल कलर लिक्विड, 500 पीस कैस्ट्रोल के डिब्बे, 764 पीस कैप, 15 पीस कैस्ट्रोल सीआरबी प्लस के 1 लीटर के भरे हुए, दो पीस खाली डब्बे, सीआरबी प्लस के 1 लीटर के भरे हुए, सीआरबी प्लस के 7.5 लीटर बाकेट, कैपलॉक 1530पीस, बारकोड स्केनर 787 पीस, डबल स्टीकर 207 पीस, सिंगल स्टीकर 305 पीस, कैप सील 95 पीस बरामद हुए। इस पर वादी दिलीप कुमार उपरोक्त की तहरीर पर कोतवाली बाजपुर में सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया जा रहा है।

*मीडिया सेल उधमसिंहनगर पुलिस*

Wednesday, 21 September 2022

नफरती चैनलों को सुप्रीम कोर्ट ने पढ़ाया नैतिकता का पाठ,क्या बाज आएंगे ये चैनल?सरकार से भी मांगा जवाब।

No comments :

नई दिल्ली 21 सितंबर,सुप्रीम कोर्ट ने नफरती भाषण के मुद्दे पर टीवी चैनलों को कड़ी फटकार लगाई है। कोर्ट ने कहा, चैनलों पर बहस बेलगाम हो गई है। नफरती टिप्पणियों पर रोक लगाने की जिम्मेदारी एंकर की है, पर ऐसा नहीं हो रहा है। पूछा, टीवी न्यूज से फैलने वाली नफरत पर केंद्र सरकार मूकदर्शक क्यों है?जस्टिस केएम जोसेफ और जस्टिस ऋषिकेश रॉय की पीठ ने बुधवार को कहा कि आजकल एंकर अपने मेहमानों को बोलने की अनुमति नहीं देते हैं। उन्हें म्यूट कर देते हैं और अभद्र भी हो जाते हैं। यह सब अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर हो रहा है। दुख की बात है कि कोई उन्हें जवाबदेह नहीं बना रहा है। वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय की जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए पीठ ने चैनलों समेत मीडिया की भूमिका पर विचार किया। मामले पर सुनवाई अब 23 नवंबर को होगी।

पीठ ने केंद्र से पूछा, आखिर देश किस ओर जा रहा है? इसे सामान्य मुद्दे के रूप में क्यों ले रहे हैं? नफरती भाषण देश के ताने-बाने में जहर घोल रहे हैं, इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती है। राजनीतिक दल आएंगे और जाएंगे, पर देश और स्वतंत्र प्रेस की संस्था कायम रहेगी। हमें सच्ची स्वतंत्रता होनी चाहिए और सरकार को अपना पक्ष स्पष्ट करने के लिए आगे आना चाहिए
सुप्रीम कोर्ट ने नफरत फैलाने वाले भाषण के मुद्दे पर विशाखा और तहसीन पूनावाला मामलों में पिछले फैसलों का हवाला देते हुए कहा कि केंद्र की प्रतिक्रिया पर विचार करने के बाद टीवी चैनलों के लिए कुछ दिशानिर्देश तैयार किए जा सकते हैं। पीठ ने कहा कि केंद्र सरकार को मामले को विरोध के रूप में नहीं लेना चाहिए और इसे कुछ कानून लाने के अवसर के रूप में लेना चाहिए।पीठ ने कहा कि मेन स्ट्रीम मीडिया में कम से कम एंकर की भूमिका काफी अहम है। जैसे ही कोई नफरती टिप्पणी करने की कोशिश करता है तो एंकर का कर्तव्य है कि वह उसे तुरंत रोक दे। पीठ ने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी में दर्शकों का अधिकार भी शामिल है। जब तक संस्थागत व्यवस्था नहीं हो जाती, लोग ऐसे ही चलते रहेंगे। हमारे पास उचित कानूनी ढांचा होना चाहिए।

पीठ ने कहा, निष्पक्ष और तथ्यपूर्ण रिपोर्टिंग कोई समस्या नहीं है। समस्या तब होती है जब ब्रॉडकास्ट, कार्यक्रमों का इस्तेमाल दूसरों को उकसाने के लिए होता है। नफरती भाषण या तो टीवी न्यूज चैनलों के जरिये या फिर सोशल मीडिया के जरिये आ रहा है। पीठ ने नफरती भाषण और अफवाह फैलाने से संबंधित याचिकाओं में प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया और नेशनल एसोसिएशन ऑफ ब्रॉडकास्टर्स को पक्षकार बनाने संबंधी आवेदन को खारिज कर दिया।मीडिया की भूमिका पर प्रकाश डालते हुए पीठ ने कहा कि यदि वह स्वतंत्र है तो किसी से आदेश नहीं लेना है। आपको (मीडिया) सांविधानिक मूल्यों को बढ़ावा देना चाहिए, हर कोई इस गणतंत्र का हिस्सा है। हर कोई इस एक राष्ट्र का है। पीठ ने कहा कि नफरत फैलाने वाले बयान विभिन्न रूपों में हो सकते हैं। किसी समुदाय के खिलाफ धीमा अभियान चलाना भी इसमें शामिल हो सकता है
कोर्ट ने कहा कि विजुअल मीडिया का ‘विनाशकारी’ प्रभाव हुआ है, क्योंकि नफरती भाषण इस पर ज्यादा होते हैं। समाचार पत्रों में क्या लिखा है, इसकी किसी को परवाह नहीं है क्योंकि लोगों के पास उसे पढ़ने का वक्त ही नहीं है।  

शीर्ष अदालत ने मामले में केंद्र से दो सप्ताह में जवाब मांगा है। कोर्ट ने पूछा है, क्या वह नफरती भाषण को नियंत्रित करने के लिए किसी कानून पर विचार कर रहा है। केंद्र ने कहा कि उसे इस मुद्दे पर केवल 14 राज्यों से जवाब मिला है।

कहाँ पकड़ा गया साढ़े 33 करोड़ का सोना!

No comments :

डीआरआई(डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस) की टीम ने पटना और दिल्ली के बाद अब मुंबई में तस्करी कर लाई गई सोने की बड़ी खेप बरामद की है. सोने की इस खेप का कुल वजन 65.46 है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत करीब साढ़े 33 करोड़ रुपये आंकी गई है.डीआरआई सूत्रों के मुताबिक इस पूरी खेप को सीज कर दिया गया है. इसी के साथ डीआरआई की टीम इस तस्करी गिरोह के जड़ों को खंगालने में जुट गई है. बताया जा रहा है कि यह खेप 394 बिस्कुट की शक्ल में है.

डीआरआई के अधिकारियों के मुताबिक मंगलवार को ही इस खेप के बारे में सूचना आई थी. सत्यापन के दौरान यह सूचना सही पाई गई. बताया गया कि विदेशी सोने की यह खेप डोमेस्टिक कोरियर कंसाइनमेंट के रूप में आ रहा है. इसके बाद आनन फानन में टीम बनाकर इस सिंडीकेट का पीछा करते हुए इस टीम ने इस कंसाइनमेंट को सबसे पहले महाराष्ट्र के भिवाड़ी में ट्रैक किया. वहां टीम ने 19 सितंबर को कुल 19.93 किलो सोना जब्त किया. सोने की यह खेप 120 बिस्कुट के शक्ल में थी. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत करीब सवा दस करोड़ रुपये आंकी गई थी.
डीआरआई की जांच में पता चला कि उत्तर पूर्व के देशों से सोने की यह खेप तस्करी कर पहले मिजोरम लाई गई थी. वहां से इसे मुंबई पहुंचा था. इसके लिए तस्करों ने अपने हाथ ले जाने के बजाय पूरे माल को कोरियर कर दिया. जानकारी के मुताबिक एक नॉवेल से प्रेरित होकर तस्करों ने सोने की यह खेप ठिकाने तक पहुंचाने के लिए कोरियर कंपनी को जरिया बनाया है.

Sunday, 18 September 2022

पहले एस डी एम,अब चंपावत जिले से डॉक्टर लापता

No comments :
मुख्यमंत्री पुष्कर धामी की विधानसभा अब अलग कारणों से चर्चा में है कुछ दिन पहले एस डीएम के अचानक गायब होने से प्रदेश भर में हड़कंप मच गया था उनकी सकुशल वापसी को कुछ ही दिन बीते थे कि अब एक डॉक्टर के गायब होने की सूचना मिल रही है जानकारी के अनुसार जिले के टनकपुर के उचैलीगोठ कम्यूनिटी हेल्थेनस सेंटर में तैनात सीएचओ संजय शर्मा पुत्र जगवीर शर्मा 15 सिंतबर को ड्यूटी के दौरान ही कहीं लापता हो गए। उनके लापता हुए अभी तीन दिन बीत गए, लेकिन अधिकारी का कही पता नहीं चल पा रहा है। परिजनों की सूचना पर पुलिस ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। कोतवाल चंद्र मोहन सिंह ने बताया कि 32 वर्षीय संजय शर्मा निवासी विष्णुपुरी कालोनी डयूटी के लिए अपने घर से उचैलीगोठ हेल्थनेश सेंटर गए थे। उन्होंने अपनी बाइक खड़ी कर चाबी कार्यालय में रखी और किसी को बिना बताए गायब हो गए। बताया कि उस दिन उन्होंने शाम को टनकपुर के पीएनबी एटीएम से 11 हजार रुपये भी निकाले। पुलिस ने उनका मोबाइल नंबर सर्विलांस में लगाया है। फिलहाल उनका मोबाइल बंद आ रहा है। वहीं मामले में उचैलीगोठ के ग्रामीणों का कहना है कि संजय को ई-रिक्शे से टनकपुर की ओर आते देखा गया था। वह कुछ समय से परेशान चल रहे थे। फिलहाल पुलिस उनकी तलाश में जुटी है। गुमशुदगी की रिपोर्ट डॉक्टर के चाचा देवी प्रसाद शर्मा ने बूम चौकी में दर्ज कराई है। लापता डॉक्टर आयुर्वेदिक चिकित्सक हैं, जो कम्युनिटी हेल्थ अफसर के पद पर कार्यरत हैं। आला अधिकारियों का वी वी आई पी क्षेत्र से अचानक यूँ गायब हो जाना लोगों में चर्चा का विषय बना है।

Saturday, 17 September 2022

राष्ट्रीय फलक पर चमका खटीमा का ध्रुव

No comments :
खटीमा के ध्रुव डाबर को इंस्पायर अवार्ड 2020-21 की राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इंस्पायर अवार्ड के राज्य समन्वयक अवनीश उनियाल ने पुरस्कार की पुष्टि की। उनका चयन  इंटरनेशनल लेवल की प्रतियोगिता के लिए हुआ है|खटीमा के सर्राफ स्कूल के छात्र और प्रतिष्टित गारमेंट्स शो रूम चाहत कलेक्शन के स्वामी गगन डाबर के पुत्र ध्रुव राष्ट्रीय स्तर पर चयनित साठ छात्रों में उत्तराखंड के एकमात्र छात्र है उन्हें जापान जाकर वहां की सांस्कृतिक, सामाजिक गतिविधियों का अध्ययन करने का अवसर प्राप्त हुआ है|  ध्रुव ने गंदे पानी से उर्वरक निर्माण की विधि पर कार्य किया है |
विद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान साथी विद्यार्थियों से अपने अनुभवों को साझा करते हुए ध्रुव ने बताया कि उन्हें इस प्रोजेक्ट के प्रति आठवीं कक्षा के दौरान ही रूचि उत्पन्न हुई | उन्होंने बताया कि गंदे पानी में अमोनियम और फास्फेट तत्व उपस्थित रहते हैं | इस पानी में मैग्नीशियम डालने पर यह बॉन्ड बनाकर पानी के तल में बैठ जाता है | यही उर्वरक तत्व  धरती की उर्वरा शक्ति को बढ़ाने में सहायक होता है | उनके इस प्रोजेक्ट की राष्ट्रीय स्तर पर अत्यधिक प्रसंशा हुई है।अपने इस कार्य की सफलता का श्रेय उन्होंने मार्गदर्शक गुरुजनों हिमांशु पंगरिया, चिन्मय राउल माता-पिता  तथा विद्यालय को दिया जिन्होंने उन्हें इस कार्य के लिए प्रेरित किया और हमेशा सहयोग किया | विद्यालय प्रबंधन सहित प्रधानाचार्य प्रकाश कुमार , स्कूल स्टाफ इंस्पायर के समन्वयक नरेंद्र रौतेला तथा खटीमा के गणमान्य नागरिकों ने ध्रुव को बधाई और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार प्राप्त करने की शुभकामनाएं दी हैं |

Friday, 16 September 2022

सी बी आई को कहां मिली करोड़ो की नकदी,जेवरात और 9 कुंटल घी

No comments :

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जांच कर रही सीबीआई की टीम गुरुवार को प्रयागराज के बाघम्बरी मठ पहुंची. सीबीआई की टीम, पुलिस और मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में महंत नरेंद्र गिरी के सील किए हुए कमरे को खोला गया. सूत्रों के मुताबिक, महंत के कमरे से 3 करोड़ रुपये कैश और कुछ जमीनों के कागजात बरामद हुए हैं. 

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जांच कर रही सीबीआई की टीम गुरुवार को प्रयागराज पहुंची थी. सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान पुलिस और मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में महंत के शयन कक्ष को खोला गया, जिसमें तीन करोड़ रुपये कैश, करोड़ों के जेवरात, कुछ जमीनों के कागजात, 13 कारतूस और करीब 9 कुंतल देशी घी मिला है, जिसे महंत बलवीर गिरी को सौंप दिया गया है. हालांकि इस मामले में कोई कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं है.  

Wednesday, 14 September 2022

हल्द्वानी में युवाओं ने भरी हुंकार, न्याय न मिला तो गोल्ज्यू दरबार मे डालेंगे घात।

No comments :


 हल्द्वानी।

 बीते कई हफ्तों से युवाओं की जनआक्रोश रैली के संदर्भ मे कुमाऊं पूरे कुमाऊं भर में चर्चा थी वह आज सफलता के साथ शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हो गई।
चर्चा का दबाव कुछ इस कदर था कि पुलिस प्रशासन को भारी जत्था सड़कों पर तैनात करना पड़ा लगभग तीन से चार जिलों के एसडीएम कोतवाल सीओ सहित 4 से 5 जिलों का पुलिस प्रशासन केवल हल्द्वानी महा जनआक्रोश रैली को शांतिपूर्ण बनाए रखने के लिए हल्द्वानी में तैनात कर दिया गया ।
 इधर युवाओं ने तैयारी जारी रखी और प्रशासनिक अमले के बिल्कुल चुस्त होने के बावजूद वह कई जगह युवाओं की बसों को कथित तौर पर रोक देने के बावजूद हजारों की संख्या में युवा हल्द्वानी पहुंचे, तथा भ्रष्टाचार के विरोध में जनआक्रोश युवाओं में देखने को मिला । वही कार्यक्रम शुरू होने से खत्म होने तक प्रशासन इस बात पर अड़ा रहा था की रैली निकाली जाएगी पर युवाओं के आगे अंततः प्रशासन ने झुकते हुए अपनी देखरेख में पंत पार्क एमबीपीजी के सामने से बुधपार्क तक आकर वहां पर एसडीएम को ज्ञापन सौंपने दिया।
 जिसमें युवाओं ने 13 सूत्रीय मांगे रखी थी इन मांगों को मुख्यमंत्री से मुलाकात में पूर्ण करने के लिए मुख्यमंत्री को 1 सप्ताह का समय दिया है, युवाओं का कहना था कि अगर 1 सप्ताह में यह मांगे नहीं मानी जाती तो पूरे प्रदेश भर में इससे भी व्यापक आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी ।
इस आंदोलन में  विभिन्न राजनीतिक दलों के लोगों ने अपना समर्थन उत्तराखंड युवा एकता मंच के बैनर तले दिया व  राजनीतिक दल अपने अपने झंडे व पार्टी की विचारधारा को किनारे कर केवल और केवल युवाओं के समर्थन में हल्द्वानी में दिखे ।
समर्थन देने वालों में मुख्य रूप से हल्द्वानी विधायक सुमित हृदयेश,उप नेता सदन भुवन कापड़ी, नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य,आम आदमी पार्टी यूथ विंग प्रदेश अध्यक्ष नितिन जोशी, पूर्व ब्लाक प्रमुख संजय नेगी पूर्व विधायक संजीव आर्य ,युवा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुमित्तर भुल्लर,उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के अध्यक्ष गिरीश डालाकोटी, सुराज सेवा दल के अध्यक्ष रमेश जोशी ,पछास अध्यक्ष महेश जोशी, भाकपा कई पूर्व व वर्तमान हल्द्वानी एमबीपीजी के छात्र संघ के पदाधिकारी आदि थे वहीं विभिन्न संगठनों ने अपना अपना समर्थन दिया और भारी संख्या में युवा जुटे।
 इस दौरान मंच पर मौजूद पूर्व व वर्तमान विधायक व विपक्ष के लोगों से भी युवाओं ने कड़े सवाल पूछे युवाओं की मांग थी कि चाहे पक्ष हो या विपक्ष जो भी भ्रष्टाचारी है उनको तत्काल पद मुक्त किया जाए तथा उनकी संपत्ति की जांच कर संपत्ति को कुर्क किया जाए।

 वहीं उत्तराखंड युवा एकता मंच के सदस्य पूर्व विधायक प्रत्याशी गगन कांबोज मंच पर विपक्ष पर भी जमकर गरजे और बोले कि पक्ष हो या विपक्ष जो भी भ्रष्टाचारी है उन पर कार्यवाही की जाए हो सकता है कुछ भ्रष्टाचारी मंच पर भी मौजूद हो उन पर भी कार्रवाई की मांग हम युवा उठाते हैं। साथ ही उत्तराखंड युवा एकता मंच के सदस्य पीयूष जोशी ने  सरकार व विपक्ष दोनों को निशाने पर लेते हुए पूछा कि जब विधानसभा अध्यक्ष को बैक डोर से नियुक्ति करने का अधिकार है ,तो विधानसभा अध्यक्ष को संविधान के अनुरूप विधायिका की गरिमा को हानि पहुंचाने वालों को पद मुक्त करने का अधिकार है तो तत्काल सभी भ्रष्टाचारी नेताओ को पदमुक्त किया जाए चाहे वह लोग पक्ष व विपक्ष के बड़े पदों पर आसीन क्यो न हो उन्हें पार्टी से वह विधायिका से तत्काल बर्खास्त करें ।
वही छात्र नेत्री मीमांशा आर्य  ने मांग की कि जितने भी भ्रष्टाचारी नेता है उन सभी की संपत्तियों की जांच हो वह आय से अधिक संपत्ति पाए जाने वाले सभी नेताओं व बेमानी संपत्ति रखने वाले सभी नेताओं की संपत्ति तत्काल जब्त कर ।हम युवाओं के पक्ष में खर्च की जाए।

 इस दौरान मुख्य रूप में शैलेंद्र सिंह दानू ,तेजेश्वर घुघुतियाल,गगन कांबोज, गौरव जसवाल बजेला,राहुल पंत,लाल सिंह पवार,कार्तिक उपाध्याय, बबलू जाय,हर्षित जोशी,पीयूष जोशी आदि दर्जनों लोग मौजूद रहे।


आगे का यह रहेगा कार्यक्रम :
श्राद्ध पक्ष खत्म होते ही चितई गोलू व घोड़ाखाल गोलू देवता के मंदिर में सभी प्रदेश के युवा घात डालने जाएंगे 
-राहुल पंत
सदस्य उत्तराखण्ड युवा एकता मंच।


प्रदेश के युवा  जागरूक हो चुके हैं मुख्यमंत्री यह ना समझे कि आंदोलन ही खत्म हो जाएगा ।यह आंदोलन जारी रहेगा जब तक की सीबीआई जांच नही हो जाती व हमारी 13 सूत्री मांग को मुख्यमंत्री पूर्ण नहीं कर देते। आंदोलन की आगामी रणनीति तय की जा रही है हमने मुख्यमंत्री जी को सारी मांगने मांगने के लिए 1 सप्ताह का टाइम दिया है,उसके बाद आंदोलन की सारी जिम्मेदारी मुख्यमंत्री की रहेगी।

-कार्तिक उपाध्याय
सदस्य
 उत्तराखंड युवा एकता मंच।

Tuesday, 13 September 2022

आई आई टी में चयनित छात्रों को डायनेस्टी में किया गया पुरस्कृत

No comments :

डायनेस्टी गुरुकुल छिनकी के वासुदेव, अमित, लोचन, सुयश व अनुप्रिया का आईआईटी में चयन होने पर विद्यालय प्रबंधन द्वारा उन्हें सम्मानित किया गया
छात्रों की इस उपलब्धि पर समस्त विद्यालय परिवार व क्षेत्र में खुशी का माहौल है। विद्यार्थियों की इस उपलब्धि पर विद्यालय के प्रबंधक निदेशक श्री धीरेन्द्र चंद्र भट्ट ने समस्त विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि विद्यार्थियों द्वारा किए गए कठोर परिश्रम से उन्होंने इस मुकाम को हासिल किया है। उन्होंने कहा कि संसाधनों के अभाव में भी ऊंचाई को छुआ जा सकता है यह विद्यार्थियों द्वारा दर्शाया गया। उपरोक्त सभी विद्यार्थी पूर्व से ही अपनी विद्यालयी शिक्षा में भी उत्कृष्ट प्रदर्शन कर चुके हैं। सभी विद्यार्थी हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की मेरिट सूची में अपना स्थान बना चुके हैं। वहीं उन्होंने कहा कि सफलता प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों को निरंतर अपने पथ पर अग्रसर रहना चाहिए। विद्यार्थी जब सफलता के आयाम को छूता है तभी उसके गुरुजनों का लक्ष्य भी पूर्ण होता है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों की इस उपलब्धि से हम सभी गौरवान्वित हैं। विद्यालय के प्रबंधक निर्देशक धीरेन्द्र भट्ट द्वारा चयनित छात्र वासुदेव जोशी को उनकी उपलब्धि पर 11,000 रूपये का चैक प्रदान किया। साथ ही चयनित अन्य छात्रों को 5100-5100 रूपये देकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। इस अवसर पर विद्यालय की प्रधानाचार्या अंजू भट्ट, डायरेक्टर प्रेमा भट्ट, उप प्रधानाचार्य चंद्रकांत पनेरु, प्रशासनिक अधिकारी  मनीष चंद, एकेडमिक डायरेक्टर विक्टर आईवन विद्यालय के समस्त शिक्षक शिक्षिकाओं ने सफलता प्राप्त करने वाले समस्त विद्यार्थियों उनके अभिभावकों को शुभकामनाएं प्रेषित कीं।

Sunday, 11 September 2022

नही रहे सबसे बड़े धर्मगुरु

No comments :
हिंदुओ के सबसे बड़े धर्मगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का निधन हो गया है। मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर के झोतेश्वर मंदिर में उन्होंने अंतिम सांस ली। वह 99 साल के थे और लंबे समय से बीमार चल रहे थे। हाल ही में 3 सितंबर को उन्होंने अपना 99 वां जन्मदिन मनाया था। वह द्वारका की शारदा पीठ और ज्योर्तिमठ बद्रीनाथ के शंकराचार्य थे। शंकराचार्य ने राम मंदिर निर्माण के लिए लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी। आजादी के आंदोलन में भी भाग लिया था।

Monday, 5 September 2022

सुप्रीम कोर्ट ने किया साफ: निजी अस्पतालों को खुद करना होगा अपने स्‍टाफ की सुरक्षा का इंतजाम*

No comments :
सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया कि निजी अस्पतालों को अपने स्‍टाफ की सुरक्षा खुद करनी होगी। समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक सर्वोच्‍च अदालत ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारों से निजी अस्पतालों को सुरक्षा कवर प्रदान किए जाने की उम्मीद नहीं की जा सकती है। निजी अस्‍पताल व्यावसायिक उद्यम हैं जिनको अपनी सुरक्षा खुद करनी है। 
शीर्ष अदालत उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें अधिकारियों को अस्पतालों और चिकित्सा केंद्रों में पर्याप्त सुरक्षा सुनिश्चित करने का निर्देश दिए जाने की मांग की गई है, ताकि मरीजों के रिश्तेदारों और अन्य लोगों द्वारा डॉक्टरों एवं स्वास्थ्य कर्मियों पर हमलों को रोका जा सके।जस्टिस एसके कौल और न्यायमूर्ति एएस ओका की पीठ ने कहा कि निजी अस्पतालों और चिकित्सा केंद्रों को अपनी सुरक्षा व्यवस्था करनी चाहिए। जहां तक सरकारी अस्पतालों का संबंध है तो उनकी सुरक्षा की व्यवस्था संबंधित अस्पतालों द्वारा की जाती है। शीर्ष अदालत ने कहा कि देश में बड़ी संख्या में अस्पताल, नर्सिंग होम और चिकित्सा केंद्र निजी हैं। पीठ ने याचिकाकर्ताओं की ओर से पेश वकील से सवाल किया कि क्‍या आप चाहते हैं कि सरकार हर अस्पताल को सुरक्षा प्रदान करे..।