"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"

BREAKING NEWS:-देवभूमि का मर्म आपका हार्दिक स्वागत करता है

Friday, 1 September 2017

खटीमा गोलीकांड में मारे गए लोगों को याद किया

No comments :

खटीमा। 1 सितम्बर 1994 को हुए गोलीकांड में मारे गए लोगों की 23वीं बरसी पर विभिन्न दलों के लोगों ने शहीद स्मारक में श्रद्धांजलि अर्पित की। भाजपा प्रदेष अध्यक्ष अजय भट्ट, पूर्व सांसद महेन्द्र सिंह पाल, विधायक पुष्कर सिंह धामी, विधायक प्रेम सिंह राणा, कांग्रेस यूथ प्रदेष अध्यक्ष भूवन कापड़ी, पूर्व दर्जा राज्य मंत्री कैप्टन शेर सिंह दिगारी, पूर्व सैनिक संगठन अध्यक्ष कुंवर सिंह खनका, कांग्रेस प्रदेष प्रवक्ता दयाकिषन कलौनी ने शहीद स्मारक पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की। 1 सितम्बर 1994 को हजारों लोगो द्वारा निकाले जा रहे जुलूस पर असमाजिक लोगों ने पथराव कर दिया। जिससे जुलूस में भगदड़ मच गई और पुलिस ने भीड़ पर लाठी चार्ज करते हुए गोली भी चलानी शुरू कर दी। जिसके फलस्वरूप जुलूस में शामिल रहे गोपी चंद, धर्मानन्द भट्ट, प्रताप सिंह, भगवान सिंह, रामपाल के साथ ही रिक्शा चला रहे सलीम,व साईकिल से दूध बेचने खटीमा आये परमजीत की मौत हो गई .जिन्हें कालांतर में राज्य के लिए श
हीद बता दिया गया और प्रति वर्ष इन्हें सर्वदलीय श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित कर श्रद्धांजलि दी जाती है। भाजपा प्रदेष अध्यक्ष अजय भट्ट ने षहीद स्मारक पर श्रद्धां सुमन अर्पित करते हुए कहा कि षहीदों की बलिदान के फलस्वरूप में राज्य मिला है तथा उनकी कुर्बानी को प्रदेष की जनता कभी भूल नहीं सकती है। उन्होंने कहा कि प्रदेष सरकार षहीदों के सपनों का राज्य बनाने के लिए राज्य से बेरोजगारी व पलायन रोकने के लिए प्रयासरत है। श्रद्धांजलि सभा की अध्यक्षता कैप्टन ष्षेर सिंह दिगारी व संचालन अमित पाण्डेय ने किया। श्रद्धांजलि सभा में ब्लाॅक प्रमुख दान सिंह राणा, राज्य आंदोलनकारी रमेष चन्द्र जोषी, नंदन सिंह खड़ायत, भैरव दत्त पाण्डेय, हरीष जोषी, जगदीष पाण्डेय, हिमांषु बिष्ट, गोपाल बोरा, शिवषंकर भाटिया, नवीन बोरा, भुवन जोषी, रमेष जोषी, बाॅबी राठौर, मेहदी हसन, किषोरी देवी विमला मुडेला, षांति ज्याला, भूपेन्द्र भण्डारी, आनंद भण्डारी, गोविन्द चड्डा, गणेष मुडेला, महेन्द्र दिगारी, कन्हैयाल लाल, ठाकुर महेन्द्र सिंह आदि मौजूद थे। वही खटीमा कांड की 23वीं बरसी पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दुरभाष पर लोगों को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि कई शहादतो के बाद राज्य की प्राप्ति हुई है और खटीमा से ही सर्वप्रथम राज्य की प्राप्ति के लिए आंदोलनकारियों ने षहादत दी थी । उन्होंने दूरभाष पर खटीमा में शहीद स्मारक बनाये जाने की घोषणा की।

No comments :

Post a Comment