"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"

BREAKING NEWS:-देवभूमि का मर्म आपका हार्दिक स्वागत करता है

Friday, 16 June 2017

अब नहीं जा सकेंगे मनमाफिक कपडे पहनकर डिग्री कालेज

No comments :
हल्द्वानी- कुमाऊं के सबसे बड़े डिग्री कालेज एमबीपीजी में जल्द ही आपको बीए, बीएससी और बीकॉम में पढने वाले छात्र- छात्राऐं एक ड्रेस में नजर आने वाले हैं। प्रदेश के विश्वविद्यालयों में पढने वाले छात्र- छात्राओं और प्रोफेसरों के लिए ये खबर चौंकाने वाली हो सकती है। विद्या के उच्च शिक्षण संस्थानों में पढने और पढाने वालों के लिए अब सरकार ने एक निश्चित ड्रेस कोड निर्धारित कर दिया है। गुरुवार को उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. बीसी मेलकानी ने उत्तराखंड़ के 100 डिग्री कॉलेजों में नए सत्र से ड्रेस कोड लागू करने के आदेश जारी कर दिए हैं। डॉ. बीसी मेलकानी ने बताया कि विद्यार्थियों की सुविधा के लिए ड्रेस के लिए तीन रंग निर्धारित किए गये हैं। अपने आदेश के साथ ही उच्च शिक्षा निदेशक ने प्रदेश के डिग्री कॉलेजों के प्राचार्यो को ड्रेस कोड के पालन को सुनिश्चित करने को भी कहा है। बता दें कि कुमाऊं के तमाम विश्वविद्यालयों में पढने वाले छात्र अपने हिसाब से ही कॉलेज में आने के लिए ड्रेस का चयन करते हैं। लेकिन कई बार छात्र- छात्राओं की ड्रेस फूहड़ और अश्लीलता की हद को भी पार कर देती है। ऐसे में शिक्षा का मंदिर पढाई के बजाय फैशन की दुकान ज्यादा लगते हैं। आये दिन कॉलेज में ड्रेस को लेकर विवाद की स्थिति भी बन जाती है। कई बार छात्राओं को भद्दे कमेंट और छेड़खानी का शिकार भी होना पड़ता है। विश्वविद्यालयों की बिगड़ती इसी फिजा को सुधारने के लिए उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. धन सिंह रावत ने एक अभियान के तहत विश्वविद्यालयों की सूरत को सुधारने का ऐलान किया । यही वजह है कि गुरूवार को उच्च शिक्षा निदेशक ने छात्रों के लिए तीन रंग की ड्रेस का विकल्प दिया है। कॉलेज प्रशासन छात्रों के मत के हिसाब से यह तय करेगा कि कॉलेज में कौन से रंग की ड्रेस को छात्र- छात्राऐं पहनेगें। छात्रों के लिए नेवी ब्लू पेंट, आसमानी कमीज, ब्राउन पेंट, क्रीम कलर की कमीज व ग्रे पेंट और सफेद कमीज का आप्शन दिया गया है। जबकि छात्राओं के लिए नेवी ब्लू कमीज और सफेद सलवार व दुपट्टा, ब्राउन कमीज और क्रीम कलर की सलवार व दुपट्टा, ग्रे कमीज और सफेद सलवार व दुपट्टा निर्धारित किया है। इसके साथ ही कालेज के प्राचार्य को यह भी जिम्मेदारी दी गई है कि कालेज में आने वाले सभी टीचर्स भी शालीन कपड़े पहनकर कालेज में आऐ जिससे किसी भी तरह की अव्यवस्था से बचा जा सके। एमबीपीजी कॉलेज प्राचार्य डॉ. जगदीश प्रसाद ने बताया कि कॉलेज में भी ड्रेस कोड लागू करने का आदेश पहुंच गया है। इसके लिए जल्द बैठक कर कमेटी तय की जाएगी। प्राचार्य ने स्पष्ट किया कि अब कॉलेज को फूहड़ और अश्लील ड्रेस से मुक्त करते हुए एक समान ड्रेस को लागू कराया जायेगा। हालाकि शासन के इस आदेश के इतर कॉलेज में पढने वाले छात्र- छात्राओं के लिए यह खबर किसी शॉक ने कम नही है।

No comments :

Post a Comment