"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"

BREAKING NEWS:-देवभूमि का मर्म आपका हार्दिक स्वागत करता है

Wednesday, 24 May 2017

बिना मुआवजा चूहा भी नहीं घुस पायेगा

No comments :
खटीमा। बाईपास निर्माण की जद में आ रही भूमि का भूमि विवाद के चलते मुआवजा न मिलने से काबिज काश्तकारों में रोष व्याप्त है उन्होंने ऐलान किया है बिना मुआवजा लिए खेतो में जे सी बी तो क्या चूहे को भी खेतों में नहीं घुसने देंगे
काबिज काश्तकारों ने तीन दिन पहले शुरू कराये बाईपास निर्माण कार्य को मौके पर पंहुचकर रोक दिया। उन्होंने मुआवजा न मिलने तक कार्य शुरू न होने देने की चेतावनी के साथ जेसीबी समेत एनएच अधिकारियों को खदेड़ दिया। इसके बाद आक्रोशित काश्तकारों ने एसडीएम का घेराव कर तत्काल काबिज काश्तकारों को मुआवजा जारी करने की मांग उठाई। सितारगंज से टनकपुर तक बन रहे टू-लाइन एनएच में पहेनिया से कुटरी तक प्रस्तावित दो साल से अधर में लटके खटीमा बाईपास के निर्माण कार्य को प्रशासन ने तीन दिन पहले शुरू करा दिया था। इससे उम्मीद जगी थी कि बरसात से पहले बाईपास का निर्माण हो जायेगा। लेकिन भूमि विवाद को पेंच अब बाईपास निर्माण में आड़े आने लगा है। काबिज काश्तकार मुआवजा न मिलने की आशंका से आक्रोशित हो गये है। बुधवार को दर्जनों काबिज काश्तकार व पूर्व सैनिक संगठन के अध्यक्ष कुंवर सिंह खनका के नेतृृत्व में बाईपास निर्माण स्थल महोलिया में जा धमके। उन्होंने तत्काल मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर हंगामा काटा। साथ ही निर्माण कार्य में जुटी जेसीबी मशीन को रूकवा दिया और एनएच के अधिकारियों व कर्मचारियों को खदेड़ दिया। इस बीच सूचना मिलने पर पुलिस कर्मी भी मौके पर पहुंचे। लेकिन किसानों के आक्रोश के चलते वह भी बेवश नजर आये। काबिज काश्तकारों ने कहा कि भूमि विवाद के चलते उनको मुआवजा नहीं मिल पा रहा है। मेहनत पसीने से क्रय भूमि का पैसा न मिलने से वह सड़क पर आ गये है। उन्होंने प्रशासन को स्पष्ट चेतावनी दी कि मुआवजा न मिलने तक बाईपास निर्माण कार्य शुरू नहीं होने दिया जायेगा। इसके बाद आक्रोशित काश्तकार तहसील पहंुचे। उन्होंने एसडीएम विजयनाथ शुक्ल का घेराव कर रोष जताया। उन्होंने कहा कि बिना मुआवजा दिये निर्माण कार्य होने पर आंदोलन किया जायेगा। एसडीएम ने आक्रोशित काश्तकारों को आश्वासन दिया कि निर्माण कार्य जारी होने दिया जाय तथा काबिज काश्तकारों को मुआवजा मिलेगा। किसी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जायेगा। इस दौरान मानी चन्द, लक्ष्मण सिंह सामंत, राजेन्द्र प्रसाद, जीवन सिंह मेहता, पूरन जोशी, मोहन जोशी, मनोज चन्द, सुनील सिंह, प्रकाश चन्द, संजीत राणा, बिन्दु देवी, रेखा देवी, कमान सिंह कार्की, जगदीश सामंत, नवीन गोवाड़ी, नवीन भट्ट, सुकर चन्द, शिवराज सिंह, आनन्द सिंह राणा आदि मौजूद थे।

No comments :

Post a Comment