"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"

BREAKING NEWS:-देवभूमि का मर्म आपका हार्दिक स्वागत करता है

Tuesday, 16 May 2017

एस डी एम ने क्या कह दिया कि महिलाएं भड़क उठीं

No comments :
समाधान के लिए तपती धूप में एस डी एम से मिलने गई महिलाओ को एस डी एम से रुसवाई मिली,खटीमा में कंजाबाग मार्ग पर शिव मंदिर से चंद कदमो की दूरी पर गत सप्ताह अंग्रेजी शराब की दुकान खुलने से मंदिर की महिला कीर्तन मण्डली के सदस्यों में नाराजगी थी और इसको हटाने को लेकर बीते शुक्रवार को महिलाओं ने एकत्र होकर एस डी एम से मिलने का मन बनाया लेकिन तहसील पहुँचने पर पता लगा कि एस डी एम व तहसीलदार विभागीय कार्य से जिले में गए है इस पर महिलाएं कोतवाल चंचल शर्मा से मिलीं महिलाओ का कहना था कि यह दुकान आबादी के बीच होने के साथ ही मंदिर के समीप है जिससे वहाँ से गुजरने वाले श्रद्धालुओं व छात्राओ को अप्रिय स्थितियों का सामना करना पड़ता है महिलाओं को कोतवाल ने आश्वासन दिया कि वे एस डी एम के सम्मुख इस मामले को उठाएंगे और उचित समाधान के बाद ही दुकान खुलेगी लेकिन दो दिन बाद दुकान यथावत खुलने लगी तो महिलाओ ने स्वयं एस डी एम से वार्ता का मन बनाया और मंगलवार को महिलाये धार्मिक व सामाजिक कार्यो में बढचढ कर भाग लेने के लिए जानी जाने वाली मंदिर कमेटी प्रमुख शांति पाण्डेय के नेतृत्व में तहसील पहुँच गई लेकिन एस डी एम किसी मीटिंग के सिलसिले में अन्यत्र गए थे जिस पर महिलाये तहसील परिसर में ही धरना देकर बैठ गईं एक घंटे इंतजार के बाद एस डी एम विजयनाथ शुक्ल अपने आफिस पहुंचे तो महिलाये अपनी फरियाद लेकर उनके पास पहुंची तो एस डी एम महिलाओ पर भड़क गए महिलाओ के अनुसार एस डी एम कहने लगे कि मेरा काम दुकान खोलने व बंद करने का नहीं है दुकान बंद ही करानी है तो जिसने खोली है उसके पास जाओ ,साथ ही यह भी कहा कि शराब ही तो बिक रही है कोई जहर थोड़े ही बिक रहा है और शराब तो हर घर में पी जाती है ,लेकिन महिलाये सबसे ज्यादा तब आक्रोशित हो गईं जब मुख्य मार्ग पर खुली इस दुकान के चलते महिलाओ ने शराबियो द्वारा महिलाओ से अभद्रता की शंका जताई तो एस डी एम बोल पड़े कि जहाँ अभद्रता का खतरा हो वहाँ महिलाओ को जाना ही नहीं चाहिए.हालंकि एस डी एम ने अंत में समाधान का आश्वासन भी बिना तिथि निर्धारण के दिया लेकिन उनके व्यवहार से महिलाएं रुष्ट हो गई उनका कहना था कि दुकान भले ही हटे या न हटे लेकिन जनता के प्रति असंबेदनशील रवैया अपनाने वाले ऐसे अधिकारी को खटीमा ही नहीं प्रदेश से ही हटाने के लिए मुख्यमंत्री से मांग करेंगे और जरूरत पड़ी तो स्वय मुख्यमंत्री से मिलकर इस मामले को उठाएंगी ,इधर अधिवक्ता संघ ने भी एस डी एम को ज्ञापन देकर इस दुकान को तुरंत हटाकर अन्यत्र स्थानांतरित करने की मांग की है

No comments :

Post a Comment