"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"

BREAKING NEWS:-देवभूमि का मर्म आपका हार्दिक स्वागत करता है

Thursday, 23 March 2017

खटीमा के ग्रामीण क्षेत्रो में हाथियों का आतंक

No comments :
खटीमा- वन सीमा से सटे गांव विरिया में हाथियों के झुण्ड ने चार एकड़ गेहूं की फसल रौंदकर तहस-नहस कर दी तथा काश्तकारों के खेतों पर लगाये गये इंजन व ट्यूबल को क्षतिग्रस्त कर दिया। हाथियों के आतंक से ग्रामीण परेशान है। किलपुरा रेंज के अन्र्तगत वन सीमा से सटे क्षेत्र में इन दिनों हाथियों के आतंक से ग्रामीणों का जीना दूभर हो गया है। ग्रामीण अपनी फसलों को बचाने के लिए रात-रात भर जाग रहे हंै। बावजूद इसके हाथियों के झुण्ड खेतों मंे घुसकर फसलों को बुरी तरह रौंद रहे हंै। रविवार की रात्रि हाथियों के झुण्ड विरिया गांव मंे घुस आयेे। जहां हाथियों ने विक्रम चन्द, गणेश चन्द की 10 बीघा, शेर सिंह राणा, विनोद सिंह राणा की 8 बीघा व आनन्द चैहान की लगभग 6 बीघा को पैरों तले बुरी तरह कुचल कर तहस-नहस कर दिया। हाथियों के झुण्ड ने विक्रम चन्द व शेर सिंह राणा के खेत में फसलों की सिंचाई के लिए लगाये गये इंजन व ट्यूबेल को क्षतिग्रस्त कर दिया। हाथियों के रात्रि में खेतों में घुसने का पता चलते ही ग्रामीण हाथियों को भगाने के लिए मशाल जलाकर पटाखे व वर्तन बजाते रहे लेकिन हाथियों का झुण्ड खेतों में फसलों को रौदते रहा। घण्टों की कड़ी मशक्कत के बाद ग्रामीण बमुश्किल हाथियों को जंगल की ओर खदेड़ने में कामयाब हो पाये। हाथियों ने ग्रामीणों की चार एकड़ गेहूं की फसल बुरी तरह रौंद दी। ग्रामीणों ने हाथियों द्वारा गेहूं की फसल रौंदने, इंजन व ट्यूबल क्षतिग्रस्त करने की सूचना वन विभाग अधिकारियों को दी। मौके पर पंहुचे वन कर्मियों ने हाथियों द्वारा रौंदी गई फसल, क्षतिग्रस्त इंजन व ट्यूबल का मौका मुआयना किया। ग्रामीणों ने विभाग से हाथियों द्वारा रौंदी गयी फसल का मुआवजा देने की मांग करते हुए वन सीमा से सटे गांवों में हाथी सुरक्षा दीवार बनाने की मांग की।

No comments :

Post a Comment