देवभूमि का मर्म

"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"

BREAKING NEWS:-देवभूमि का मर्म आपका हार्दिक स्वागत करता है

Friday, 31 March 2017

ओवरलोडिंग पर डी एम सख्त

No comments :

रूद्रपुर 31 मार्च- जिलाधिकारी डाॅ0 नीरज खैरवाल ने देर सायं कलक्टेªट सभागार में ओवरलोडिंग की समस्या के समाधान को लेकर जिला प्रषासन,पुलिस प्रषासन,वन ,परिवहन एवं ट्रक/डम्पर यूनियन के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने ट्रक यूनियन के पदाधिकारियों की समस्याओं व सुझावों को सुना। जिलाधिकारी ने पदाधिकारियों से कहा कि ओवरलोडिग के मामलों के समाधान में प्रषासन का सहयोग करें उनकी समस्याओं का निराकरण किया जायेगा। उन्होंने कहा कि किसी के साथ अन्याय नही होने दिया जायेगा। डीएम ने कहा कि ओवरलोडिग के मानकों का कडाई से अनुपालन सुनिष्चित किया जाय। उन्होंने कहा कि ओवरलोडिग करने वालों को सुधरने का मौका दिया जा रहा है। सभी वाहन स्वामी अपने ड्राइवरों को प्रषिक्षित कर लें तथा यातायात के नियमों की जानकारी भी दे दें। उन्होंने ट्रक युनियन के पदाधिकारियों से कहा कि उनकी सहायता के लिये हैल्प लाइन नं0 दिया जा जायेगा इसके साथ वह स्वयं उनका,एसएसपी तथा सम्बन्धित क्षेत्र के एसडीएम व क्षेत्राधिकारी पुलिस का भी मोबाइल नं0 ले ले ताकि वह उन नं0 पर अपनी षिकायत दर्ज करा सकेें। जिलाधिकारी ने कहा कि ओवरलोडिग से क्षतिग्रस्त हो रही सडके तथा आये दिन हो रही दुर्घटनायें गंभीर विशय है जिनकी रोकथाम नितान्त जरूरी है। इस कार्य में सभी के सहयोग की अपेक्षा है। जिलाधिकारी ने सभी उप जिलाधिकारियों,क्षेत्राधिकारी पुलिस एव ंपरिवहन विभाग के अधिकारियों से कहा कि वह आपसी तालमेल बनाकर ओवरलोडिग के खिलाफ अभियान चलायेे तथा ओवरलोडिग के मानकों की अवहेलना करने वालों पर सख्ती से पेष आये। पदाधिकारियों की बात पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों को निर्देष दिये कि जिला पंचायत के बैरियरों पर यदि ट्रको से नियमों के विपरीत वसूली हो रही है तो दोशियेां के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि खनन पट्टा व स्टोन के्रषर धारकों को रवन्ना जारी किये जाते है तथा जो पट््टे व के्रषर बिना लाईसेंस के पाये जायेगे उन्हें सीज किया जायेगा। जिलाधिकारी ने कहा कि दुर्घटनओं से बचने के लिये ट्रक /ट्रालियों पर रिफलेक्टर लगाये जाये तथा नं0 प्लेटे रेडियम से लिखी जाय। एसएसपी सदानंद दाते ने कहा कि कानून का पालन सभी को करना होगा यदि 90 प्रतिषत लोग नियम पर चलेंगे तो षेश 10 प्रतिषत लोगों को आसानी से चिन्हित किया जा सकता है। उन्होंने पदाधिकारियों से कहा कि वह पुलिस प्रषासन का सहयोग करें। उन्होने कहा कि थाना /पुलिस चैकियों में लोडिग के नियमों के पालन करने के उपरान्त भी उनका उत्पीडन होता है तो उसकी फीडवैक अथवा क्लििपिंग उन्हें उपलब्ध कराये सम्बन्धित के खिलाफ अवष्य कार्यवाही की जायेगी। बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रताप सिंह षाह,उप जिलाधिकारी पंकज उपाध्याय,पुरन सिंह राणा,विजयनाथ षुक्ला,नरेष चन्द्र दुर्गापाल,विनोद कुमार एआरटीओ नंद किषोर समेत ट्रक यूनियन के पदाधिकारी अमजद सलीम, अमरजीत बख्षी,विनोद भुसरी ,गुरनाम सिंह,दीदार सिंह सहित बरेली,नैनीताल तथा जनपद के विभिन्न हिस्सों से आये संगठन के पदाधिकारी उपस्थित थें।

दुर्घटना को न्यौता दे रहे है हाइवे पर पडे पोल

No comments :

राष्ट्रीय राजमार्ग में पड़े विद्युत पोल व अन्य सामग्री दुर्घटनाओं को दावत दे रहे है। राष्ट्रीय राज मार्ग 125 के चैड़ीकरण का कार्य विगत दो वर्षाें से चल रहा है। चैड़ीकरण के साथ ही मार्ग के मध्य में डिवाइडर बना कर उसमें विद्युत पोल व लाइट लगाने का कार्य भी प्रस्तावित है जो कि लगभग पूर्ण हो चुका है। विद्युत पोल लगाने के बाद बचे हुए पोलों व निर्माण सामग्री को सड़क किनारे डाल दिया गया है जो कि दुर्घटनाओं को दावत दे रहे हैं। वर्तमान में उत्तर भारत का प्रसिद्व मां पूर्णागिरी मेला अपने चरम पर है। जिसके चलते हाइवे पर दिन-रात श्रद्धालुओं का आवागमन हो रहा है। रात्रि के समय सड़क सुनसान होने के चलते छोटे व बड़े वाहन तीव्र गति से गुजरते हैं। जब आमने सामने वाहन गुजरते हैं तो वाहनों की लाइटों से आंखों के सामने अंधेरा छा जाता है। हाइवे पर पड़ी सामग्री से कई दो पहिया वाहन रात्रि में टकराकर चोटिल भी हो चुके है। हाईवे पर सड़क किनारे पडे़ पोल व निर्माण सामग्री कोई बड़ी दुर्घटना को दावत दे रहे हैं। सड़क किनारे पड़े पोल व निर्माण सामग्री हटाने के लिए संबंधित विभाग को शिकायत की जा चुकी है बावजूद इसके विभाग के कानांे पर जूं नही रेंग रही है। जिससे लगता है कि एनएच विभाग को किसी बड़ी दुर्घटना का इंतजार है। इधर तहसीलदार खीम सिंह बिष्ट ने मामला संज्ञान आने पर एनएच अधिकारी को दुरभाष में पर वार्ता कर हाइवे के किनारे पड़े विद्युत पोल व अन्य सामग्री हटाने के निर्देशित किया है।

निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अविभावको को मिला छात्रसंघ का साथ

No comments :

निजी स्कूल मे बढ़ती मनमानी के खिलाफ छात्र संघ भी सड़को पर उतर गया। षुक्रवार को एचएनबी महाविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष अनिल चन्द के नेत्तृव मे छात्र नेताओं व अभिवावको ने निजी स्कूलो की बढ़ती मनमानी के खिलाफ आक्रोषित जताते हुए तहसील परिसर मे प्रर्दषन कर तहसीलदार के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया। मुख्यमंत्री को भेजें ज्ञापन मे उन्होने कहा कि क्षेत्र मे नीजि स्कूल संचालक फीस मे बेतहाषा बृद्धि की गई है। डवल्पमेंट के नाम पर अभिभावकों से मोटी रकम वसूली जा रही है। तथा चिन्हित दुकानों से निजी किताबे महंगे दामो पर खरीदने को मजबूर किया जा रहा है। वही कुछ नीजि स्कूलों द्वारा बाहर के दुकानदारों के माध्यम से स्टाल लगाकर बाजार मूल्य से दुगने दामों पर किताबें बिकवाई जा रही है। अभिभावकों का कहना है कि कई निजी विद्यालय बच्चो को स्कूल की डेªस भी मुहैया करा रहे है। बदले मे बाजार भाव से कही अधिक पैसा वसूल कर रहे है। छात्र संघ पदाधिकारियों का कहना है कि निजी स्कूलो की बढती मनमानी के खिलाफ लगातार प्रर्दषन करते आ रहे है। बावजूद इसके सरकार अब तक निजी स्कूलों पर कोई ठोस कार्रवाई नही कर सकी है। उन्होने ने चेतावनी देते हुए कहा कि कहा कि यदि सरकार ने नीजि स्कूलों की मनमानी रोकने के लिए कडे़ कदम नही उठाती है तो छात्र संघ अभिभावकों के साथ मिलकर उग्र आन्दोलन करने को बाध्य होगें। इस दौरान प्रकाष पाण्डे, दीपक सक्सेना, षषांक बिष्ट, दिनेष धामी, सुमित पाल, पंकज चन्द, अजय कुमार वर्मा, जीषान अहमद, भूपेन्द्र मौर्या, बलवीर सिंह ज्याला, पवन गिहार आदि मौजूद थे।

Tuesday, 28 March 2017

बाहरी बुकसेलर पर भड़के अविभावक

No comments :

खटीमा। स्कूल की किताबें मनमाने दाम मे बेचेें जाने से भड़के अभिभावकों ने हंगामा किये। मौके पर पहुची पुलिस ने अभिभावकों को षांत कराते हुए अस्थाई रूप से चल रही किताब की दुकान को बंद कराया। मंगलवार को सरार्फ पब्लिक स्कूल की किताब स्कूल के बाहर रूद्रपुर के एक किताब बिके्रता द्वारा किराये की दुकान मे अस्थाई रूप से किताब रखकर बेचा जा रहा था। किताब लेने पहुचे अभिभावकों ने कापियों का अधिक मुल्य लिये जाने पर रोष जताते हुए हंगामा षुरू कर दिया। हंगामें की सुचना पर पहुचे एसएसआई जगदीष ढकरियाल ने लोगो को षान्त करते हुए अस्थाई दुकान बंद करा दी। अभिभावक अनुज अग्रवाल का आरोप है कि विद्यालय प्रबन्धन के षह पर रूद्रपुर के एक किताब बिक्रेता द्वारा स्कूल के बाहर किराये पर कमरा लेकर मनमाने दामों मे किताब-कापियों को बेचा जा रहा है। उन्होने कहा कि विद्यालय प्रबन्धन व किताब बिक्रेता की मिलीभगत से अभिभावक महगें दामों पर किताबे खरीदने को मजबूर हो रहे है। इधर विद्यालय प्रधानाचार्य धीरज भार्गव का कहना है कि अभिभावक का आरोप निराधार है। विद्यालय मे एनसीआरटी की बुक लागू की गई है जो बाजार मे हर जगह उपलब्ध है। अभिभावक अपनी सुविधानुसार बाजार से बुक खरीद सकते है। उन्होने कहा कि अभिभावकों की सुबिधा के लिए बिक्रेता द्वारा विद्यालय के नजदीक किराये के दुकान मे किताब बेच रहा है। कापियों के अधिक मुल्य पर बेचे जाने के सवाल पर उन्होने कहा कि अभिभावकों की षिकायत पर मामले की जांच की जायेगी।

Sunday, 26 March 2017

मेडिटेशन कोर्स में दर्जनों साधको ने लिया भाग

No comments :

खटीमा। बिना किसी प्रयत्न किये जाने वाले ध्यान के माध्यम से मन को नियंत्रित करने वाले सहज समाधि मेडिटेषन कोर्स का समापन हो गया। आर्ट आॅफ लिविंग के बैंगलुरू स्थित मुख्यालय से आए वरिष्ठ अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक महेश शर्मा के नेतृत्व में राणा थारू विकास भवन में तीन दिवसीय षिविर का आयोजन किया गया। रविवार को शर्मा ने सिखाया कि किस तरह से हम मन व ष्षरीर गहरे विश्राम से हम नकारात्मक विचारों को दूर कर अपनी भावनाओं पर काबू पा तनाव से मुक्त हो सकते हैं। मलेषिया, सिंगापुर, जापान, जर्मनी, दुबई सहित अनेक देषों में योग सिखा चुके आर्ट आॅफ लिविंग के अंतर्राष्ट्रीय योग प्रषिक्षक शर्मा ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि लोग सहज समाधि मेडिटेशन कोर्स करके अपनी कार्यक्षमता बढाकर पारिवारिक व व्यवसायिक वातावरण में प्रसन्नता महसूस करतें हैं। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति को ही दूसरे देश अपना रहे हैं उन्होंने शरीर में सत् तमस व रजस को नियंत्रित करने के उपाय भी बताऐ। षिविर में लोगों ने अनुभव किया कि पूरी-पूरी रात सोने के बाद भी लोग सुबह स्वयं को असहज महसूस करते है। इस षिविर में अंजनि विक्रम सिंह, ठाकुर रणवीर सिंह, धीरज भट्ट, प्रवीन अग्रवाल, प्रवीन उपाध्याय, तिलक उपाध्याय, ओ.पी. गोयल, मधु ष्षर्मा, कमल छाबड़ा, गोपाल अग्रवाल , हरीष ढोढियाल, लक्ष्मण चन्द, पूरन बिष्ट आदि ने भाग लिया।

Friday, 24 March 2017

24 मार्च का अंक

No comments :

अपर पुलिस अधीक्षक ने किया कोतवाली निरीक्षण साफ़ सफाई न दिखने पर बिफरे

No comments :

खटीमा। अपर पुलिस अधीक्षक ने कोतवाली का निरीक्षण कर हथियार व दस्तावेज चैक किये। शुक्रवार को अपर पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र पिंचा ने कोतवाली का निरीक्षण किया और निरीक्षण के दौरान उन्होंने कोतवाली के हथियारों, मालखाना, दस्तावेज कक्ष, कम्प्यूटर कक्ष, कारागृह, मुंशी कक्ष व आवासीय भवन का जायजा लिया और दस्तावेज चैक किये। निरीक्षण के दौरान साफ-सफाई न मिलने पर नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने लम्बित विवेचनाओं को जल्द निपटाने के निर्देश दिये। हथियार निरीक्षण के दौरान उन्होंने मातहतों से हथियारों को खोलना व बांधने की जानकारी की जांच भी की। पिंचा ने आवासीय भवनों की हालत खस्ताहाल होने पर भवन निर्माण के प्रस्ताव बनाकर भेजने व मातहतों को सुरक्षा को लेकर दिशा-निर्देश भी दिये। इस दौरान सीओ राजेश भट्ट, कोतवाल चंचल शर्मा, एसएसआई जगदीश ढकरियाल, बाजार चैकी प्रभारी एसएल विश्वकर्मा, राजेन्द्र सिंह डांगी, विनोद जोशी, बुद्धिबल्लभ पांडे आदि मौजूद थे।

सिद्धेश्वर शिव मंदिर में अखंड रामायण व भंडारा

No comments :

खटीमा। सिद्धेश्वर शिव मंदिर के बाबा गौरी दत्त पाण्डेय की पुण्यतिथि पर मंदिर पुजारी व भक्तों द्वारा अखंड रामायण का आयोजन किया गया। शुक्रवार को अखंड रामायण के आयोजन का हवन यज्ञ के साथ समापन हो गया। इस अवसर पर मंदिर में महिला कीर्तन मंडली द्वारा भजन-कीर्तन का भी आयोजन किया। समापन अवसर पर मंदिर में विशाल भण्डारे का भी आयोजन किया गया। जहां सैकड़ों लोगों ने पंहुचकर प्रसाद ग्रहण किया। इस दौरान नवलकिशोर पाण्डे, खिलेश पाण्डे, गंगा पाण्डे हरगोविन्द कन्याल, शांति पाण्डेय, दयाकिशन जोशी, मदन पंत, संजय भट्ट, वंशीधर भट्ट, विमला जोशी, हरीश जोशी, प्रेमा तिवारी, रंजनी, मुन्नी देवी, रश्मि जोशी, प्रदीप जोशी, श्याम तिवारी, कमला लोहनी, नन्दकिशोर उपाध्याय, खीमानन्द पाण्डे, शांति पंत, गिरीश पांडेय, पुष्पा जोशी, जगत सिंह आदि मौजूद थे।

विश्व टी बी दिवस पर गोष्ठी आयोजित

No comments :
खटीमा। विश्व टीबी दिवस पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें टीबी की बिमारी को लेकर लोगांे के जागरूक करने की बात कही गई। शुक्रवार को टीबी दिवस के अवसर पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मंे एक गोष्ठी आयोजित की गई। गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए प्रभारी चिकित्साधीक्षक डा0 प्रदीप सिंह ने टीबी की बिमारी के बारे मंे विस्तार पूर्वक जानकारी देते हुए कहा कि टीबी एक संक्रामक रोग है। जो माइकोबैक्टीरियम ट्यूबक्लोसिस नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। यह संक्रमण संक्रमिक व्यक्ति के खांसने व छीकने से वायु में फैंले बैक्टीरिया के संपर्क में आने से होता है। ट्यूबक्लोसिस अधिकतर फेफडों को प्रभावित करता है। लेकिन रीढ़, किडनी, लिवर व शरीर के अन्य हिस्सों पर भी इसका असर पड़ सकता है। उन्हांेने कहा कि टीबी एक संक्रामक बिमारी है। जो मरीज के सम्पर्क मंे आने से किसी को भी हो सकता है। इसके बचाव के लिए लोगांे को जागरूक करने की आवश्यकता है। डा0 सिंह ने कहा कि यदि दो सप्ताह तक खांसी आती है तो इसकी जांच करानी चाहिये। जांच व टीबी की दवा सरकारी अस्पताल मेें मुफ्त दी जाती है। टीबी होने पर 6 से 8 माह तक नियमित दवा के सेवन से मरीज पूर्व की भंाति स्वस्थ्य हो जाता है। उन्हांेने कहा कि टीबी की बिमारी के बारे लोगांे को जागरूक कर इस बिमारी से बचाया जा सकता है। इस दौरान गोष्ठी मे डा0 अकलीम अहमद, डा0 आईए खान, संजीव जोशी, धर्मेंद्र गुप्ता, प्रमोद नौटियाल, विजयेन्द्र गंगवार, दिगम्बर ज्याला, एचसी यादव आदि मौजूद थे।

Thursday, 23 March 2017

घर के बाहर खडी कार का शीशा तोड़ा

No comments :
------------------------------- खटीमा। अराजक तत्वों ने घर के बाहर खड़ी कार का पत्थर मारकर शीशा क्षतिग्रस्त कर दिया। वाहन स्वामी ने अज्ञात लोगों के खिलाफ चकरपुर पुलिस में तहरीर सौंपी है। दिल्ली से आये किशन सिंह ठाकुर चकरपुर में हरी सिंह ठकुराठी के मकान में किराये पर रहते थे और उन्होंने अपनी कार संख्या डीएल9सी एए7512 को घर से बाहर हाईवे के किनारे खड़ी की थी। बुधवार की रात्रि अज्ञात लोगों ने उनकी कार के आगे का शीशा में पत्थर मारकर क्षतिग्रस्त कर दिया। गुरूवार की सुबह जब उन्होंने कार का शीशा टू
टा देखा तो उनके होश उड़ गये। कार स्वामी ने चकरपुर पुलिस चैकी में अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर सौंपकर कार्रवाई की मांग की।

17 मार्च का अंक

No comments :

17 मार्च का अंक

No comments :

एस एस बी ने किया बार्डर के पिलरों का निरीक्षण

No comments :

बनबसा । एसएसबी की लौग रेंज पेट्रोलिंग तीसरे दिन भी जारी । इस दौरान एसएसबी ने टनकपुर , सैलानीगोठ, बनबसा, बंगाली बस्ती गड़ीगोठ , धनुषपुल, सिम्बल घाट , नारायण नगर मेलाघाट के अंर्तगत सीमा क्षेत्र के पीलरो का निरीक्षण किया । एसएसबी की 57 वीं वाहिनी अमृतपुर के कमांडेट के सी राणा के निर्देश पर 21 मार्च से टनकपुर से शुरू हुई एसएसबी की लौग रेज पेट्रोलिग तीसरे दिन भी जारी रही । एसएसबी के उप कमांडेट संजीव तिवारी के नेतृत्व में 40 सदस्सीय दल ने लौग रेंज पेट्रालिग के दौरान सीमा क्षेत्र में टनकपुर से मेलाघाट तक के पीलरो, अवैध मार्गो, सीमा क्षेत्र मे हो रहे अतिक्रमण , वन क्षेत्रो की सुरक्षा तथा सीमा मे हो रहे सभी गतिविधियो की जानकारी हासिल की । पेट्रोलिग के दौरान अस्सिटेंट कमांडेट गौतम सागर, अस्सिटेंट कमाडेंट बेटनरी पुजा परसवान, एसआई पूनम सूरिन, महिला कास्टेबिल सुनिता, शारदा, पूजा सहित 40 जवान शामि
ल थे ।

छात्रों की स्कूल में घटती संख्या के चलते शिक्षक ने चलाया जागरूकता अभियान

No comments :

खटीमा- राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय में घटती छात्र संख्या को लेकर विद्यालय शिक्षक श्रीभगवान मिश्र ने जागरूकता अभियान जारी रखते हुए सीमांत क्षेत्र नगरा तराई में ग्राम प्रधान अशोक राणा के आवास में गोष्ठी आयोजित कर ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों से विद्यालय में छात्र संख्या की लगातार हो रही कमी के कारणों और उसके समाधान को लेकर चर्चा की। गोष्ठी में रघुनंदन सिंह राणा ने छात्रावास में भूत प्रेत के होने के चलते बच्चे रात में वहां ठहरना नहीं चाहते है और विद्यालय में छात्रों को मानकों के हिसाब से भोजन न मिलना भी विद्यालय में दाखिला कम होना भी एक कारण है। दिनेश सिंह राणा ने कहा कि उत्तराखण्ड से बाहर उत्तर प्रदेश के किसी जिले से कुछ छात्रों का दाखिला कर दिया गया है जो क्षेत्र छात्रों के लिए ठीक नहीं है। उमेद सिंह राणा ने कहा कि क्षेत्र में अंग्रेजी स्कूलों की तादाद बढ़ने से आश्रम पद्धति स्कूल में छात्रों की संख्या घट रही है। ग्राम प्रधान अशोक राणा ने जनजाति समुदाय के लोगों से आश्रम पद्धति विद्यालय में अधिक से अधिक छात्रों का प्रवेश लेने दिलाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि विद्यालय में छात्र नामांकन नहीं करायेंगे तो विद्यालय बंद हो जायेगा। इस दौरान सुरेश राणा, अजब राणा, पहलवान राणा, बनवारी राणा, ओमप्रकाश राणा, राम सिंह, मुरली राणा, विनोद राणा, साममिलन राणा, प्रेमवती राणा, राजवती राणा, राजेश्वरी राणा, पुष्पा राणा, रामकली राणा, सुरबीना राणा, मनोरमा राणा आदि मौजूद थे।

गुलदार के हमले में ग्रामीण की मौत के बाद वन विभाग ने जारी किया अलर्ट

No comments :

खटीमा- सुरई रेंज के जंगल में गुलदार के हमले में ग्रामीण की मौत के बाद वन विभाग ने लोगों को जंगल न जाने के लिए मुनादी कराई। तीन दिन पूर्व सुरई रेंज के आरक्षित वन क्षेत्र सुरई 47 सी में गुलदार द्वारा एक व्यक्ति को जान से मार दिया था। जिसके बाद से वन विभाग ने पांच-पांच हथियार बंद वन कर्मियों की टीम गठित कर क्षेत्र में के आसपास सतर्कता बरती जा रही है और लोगों से वन क्षेत्र के जंगल में प्रवेश पर रोक लगा दी है। वनक्षेत्राधिकारी आरके मौर्या ने बताया कि गुलदार के हमले के बाद से वन विभाग की टीम ने लाउडस्पीकर से प्रचार प्रसार कर सीमावर्ती ग्रामीणों से अपील की जा रही है कि वे सुरई वन क्षेत्र के जंगल मंे प्रवेश न करे। अन्यथा जन हानि संभावित है। उन्होंने कहा कि स्थल के आस-पास केमरा ट्रैप लगाकर सम्भावित वन्य जीव की पहचान की जायेगी। खटीमा- मोबाइल कम्पनी का टावर लगाने के नाम पर एक व्यक्ति से लाखों रूपयों की ठगी कर ली है। पीड़ित ने पुलिस को नामजद तहरीर सौंपकर कार्रवाई कर रूपया वापस दिलनों की मांग की है। पुरनापुर निवासी कुलविन्दर सिंह ने पुलिस को दी तहरीर में कहा है कि मोबाइल कम्पनी के टावर लगाने के लिए समाचार में प्रकाशित विज्ञापन के तहत उसके पुत्र सर्वजीत सिंह ने मोबाइल कम्पनी सम्पर्क किया और कम्पनी कार्यालय चेन्नई में अपनी भूमि पर टावर लगाने के कुछ प्रपत्र प्रेशित किये। तत्पश्चात कम्पनी से धनराशि जमा करने के निर्देश हुए दिये गये बैंक खाते में 1550 रूपये जमा करने की बात कही और कहा जब आप धनराशि जमा करेंगे, तभी कार्रवाई आगे बढ़ेगी और उन्होंने परिजनों का बैंक एकाउंट मांगते हुए कहा कि आपके खाते में 30 लाख रूपये कम्पनी डाल देगी और आपके परिवार से एक सदस्य को 50 हजार रूपये वेतन की स्थाई नौकरी के साथ ही 9 हजार रूपये प्रतिमाह भूमि का किराया दिया जाता रहेगा। जिसके बाद उन्होंने अपने खातों में रूपया डालने की बात कहते हुए कार्रवाई करने की बात कही। जिस पर उन्होंने उनके द्वारा बताया कि अलग-अलग तारीखों में अशोक कुमार व विक्रम सिंह के खाते में कुल 1 लाख 82 हजार 550 रूपये जमा कर दिये। जिसके बाद उनका फोन आया कि 15 हजार रूपये उनके खातों में और जमा करे तब आपके भूमि मोबाइल टावर लगेगा। जिस पर उनको ठगी का एहसास हो गया। पीड़ित ने पुलिस को सौंपी नामजद तहरीर में ठगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दण्डित करने की मांग की। इधर पुलिस ने तहरीर के आधार पर जांच शुरू कर दी है।

माँ के जयकारों से गुंजायमान हुआ खटीमा क्षेत्र

No comments :
खटीमा-उत्तर भारत का सुप्रसिद्ध मेला शुरू होते ही सीमांत क्षेत्र मां पूर्णागिरी के जयकारों से गूंज रहा है। श्रद्धालु माता की सुन्दर झांकियों के साथ मां के भजन, गीतों व जयकारों के साथ झुमते नाचते दर्शन को जा रहे है। उत्तर भारत के सुप्रसिद्ध मां पूर्णागिरी धाम के दर्शनों के लिए देश के विभिन्न क्षेत्रों से भक्त प्रतिदिन खटीमा होते हुए हजारों श्रद्धालु साइकिल, वाहनों व पैदल उमड़ रहे है। पैदल जा रहे श्रद्धालुओं द्वारा मां पूर्णागिरी की सुन्दर झांकियां क्षे़त्र आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। मां पूर्णागिरी के दर्शन को पीलीभीत, माधोटांडा, पुरनपुर, बरेली, बदांयु, शाहजहांपुर आदि क्षेत्रों से लोग साईकिलों व पैदल मंदिर पंहुचते है। बुधवार को यूपी के पीलीभीत जिले के माधोटांडा से पूरा गांव मां की सुन्दर झांकी के साथ मां के जयकारों व भजन गाते नाचते झूमते दर्शन को आगे बढ़ते जा रहे है। श्रद्धालुओं का कहना है कि वह प्रतिवर्ष पूरे गांव के साथ मां की सुन्दर झांकी के साथ माता के दरबार में हाजरी लगाने पंहुचते है और मां उन्हें मांगी मुराद पूरी करती है। वहीं श्रद्धालुओं के जत्थे अपनी साईकिलों को सजा कर माता के दर्शन को रात व दिन जयकारों के साथ दर्शन को उमड़ रहे है। मां पूर्णागिरी मेले के चलते इन दिनों राष्ट्रीय राजमार्ग मां के जयकारों से गुंजायमान है। जिससे क्षेत्र का वातावरण भक्तिमय बना हुआ है।

खटीमा के ग्रामीण क्षेत्रो में हाथियों का आतंक

No comments :
खटीमा- वन सीमा से सटे गांव विरिया में हाथियों के झुण्ड ने चार एकड़ गेहूं की फसल रौंदकर तहस-नहस कर दी तथा काश्तकारों के खेतों पर लगाये गये इंजन व ट्यूबल को क्षतिग्रस्त कर दिया। हाथियों के आतंक से ग्रामीण परेशान है। किलपुरा रेंज के अन्र्तगत वन सीमा से सटे क्षेत्र में इन दिनों हाथियों के आतंक से ग्रामीणों का जीना दूभर हो गया है। ग्रामीण अपनी फसलों को बचाने के लिए रात-रात भर जाग रहे हंै। बावजूद इसके हाथियों के झुण्ड खेतों मंे घुसकर फसलों को बुरी तरह रौंद रहे हंै। रविवार की रात्रि हाथियों के झुण्ड विरिया गांव मंे घुस आयेे। जहां हाथियों ने विक्रम चन्द, गणेश चन्द की 10 बीघा, शेर सिंह राणा, विनोद सिंह राणा की 8 बीघा व आनन्द चैहान की लगभग 6 बीघा को पैरों तले बुरी तरह कुचल कर तहस-नहस कर दिया। हाथियों के झुण्ड ने विक्रम चन्द व शेर सिंह राणा के खेत में फसलों की सिंचाई के लिए लगाये गये इंजन व ट्यूबेल को क्षतिग्रस्त कर दिया। हाथियों के रात्रि में खेतों में घुसने का पता चलते ही ग्रामीण हाथियों को भगाने के लिए मशाल जलाकर पटाखे व वर्तन बजाते रहे लेकिन हाथियों का झुण्ड खेतों में फसलों को रौदते रहा। घण्टों की कड़ी मशक्कत के बाद ग्रामीण बमुश्किल हाथियों को जंगल की ओर खदेड़ने में कामयाब हो पाये। हाथियों ने ग्रामीणों की चार एकड़ गेहूं की फसल बुरी तरह रौंद दी। ग्रामीणों ने हाथियों द्वारा गेहूं की फसल रौंदने, इंजन व ट्यूबल क्षतिग्रस्त करने की सूचना वन विभाग अधिकारियों को दी। मौके पर पंहुचे वन कर्मियों ने हाथियों द्वारा रौंदी गई फसल, क्षतिग्रस्त इंजन व ट्यूबल का मौका मुआयना किया। ग्रामीणों ने विभाग से हाथियों द्वारा रौंदी गयी फसल का मुआवजा देने की मांग करते हुए वन सीमा से सटे गांवों में हाथी सुरक्षा दीवार बनाने की मांग की।

अनपढ़ बुजुर्ग ने बनाई पॉल्यूशन कंट्रोल मशीन

No comments :
खटीमा- 77 वर्षीय अनपढ़ बुजुर्ग ने वाहनों से निकलने वाले प्रदूषित धुऐं की रोकथाम के लिए फिल्टर मशीन बनाई। कई शोध संस्थानों में उसने अपने शोध के लिए साक्षात्कार दिये हैं। आला अफसरों से लेकर मुख्यमंत्री व प्रधानमंत्री तक अपने इस शोध को पत्र के माध्यम से पहुंचाया है। लेकिन सुनवाई नहीं होने से बुजुर्ग में मायूसी है, उन्होंने नये आविष्कार को लेकर प्रधानमंत्री से मिलने का निर्णय लिया है। मूलरूप से नाखोली जौरासी तहसील डीडीहाट जिला पिथौरागढ निवासी सोबन सिंह बिष्ट पुत्र स्व0 प्रताप सिंह बिष्ट 40 वर्ष पूर्व किच्छा के शांतिपुरी गांव में आकर बसे 15 साल से वे खटीमा के खेलड़िया गांव में रह रहे हैं। उन्होंने 14 वर्ष पूर्व वाहनों से निकलने वाले धुऐं को खत्म करने के लिए शोध शुरू किया। वे बताते हैं कि उन्होेंने तीस साल पहले मशीन बनानी शुरू की थी। मशीन में प्रदूषण रोकने के लिए तीन फिल्टर लगाये गये हैं पहला मुख्य द्वार, दूसरा मशीन के भीतर और तीसरा पानी को रोकता है। प्रदूषण की जांच को शीशा लगाया है। पानी के लेवल की जांच नटों से होती है। मशीन में ताजा पानी डाला जाता है। धुऐं की गंदगी फिल्टर होकर पानी में रूक जाती है। रबड़, कपड़े और लोहे की जाली लगी है जिनसे पानी के साथ धुऐं को फिल्टर किया जाता है। शोबन को उम्मीद है कि कौशल विकास को आगे बढ़ाने की बात करने वाले प्रधानमंत्री मोदी उनकी अवश्य सुनेंगे।

Wednesday, 22 March 2017

शहीद दिवस

No comments :
शहीद दिवस (दीपक फुलेरा )
शहीद दिवस की बेला पर माँ भारती को प्रणाम मेरा,
अमर शहीद राजगुरु,सुखदेव व भगत सिंह को ह्रदय से सलाम मेरा,
क्योकि देश की आजादी को हँसते हँसते फांसी में थे वो झूल गए,
आजादी के तरानों में इंकलाब का सुर थे घोल गए,
क्रांति के इन वीरों ने अंग्रेजो को था डरा दिया,
उनकी सत्ता की चुलो को था जड़ से बिलकुल हिला दिया,
तभी तो इन वीरों को देश भक्ति की सजा फांसी मिली,
सतलुज के तट पर देह को उनके फिर आजादी मिली,
खुद को फ़ना कर देश की खातिर ,
आजादी की अलख हिन्द में जगा गए,
मेरा रंग दे बसंती चोला कहकर,
इंकलाब के गीत सुनहरे गा गए,
क्रांति की मशाल लिए आजादी के ये वो दीवाने थे,
असेंबली में बम गिरा कर अँगेजो को डराने वाले थे,
माँ भारती की आजादी का सपना दिल में लिए,
सुखदेव राजगुरु भगत सिंह आजादी के वो मतवाले थे,
पर 'दीप'आज है सोचते भगत सिंह का जज्बा कहा से लाये,
भारत तेरे टुकड़े होंगे कहने वालों को कैसे समझाए,
शहीद दिवस पर आज यही चिंतन हमको करना होंगा,
सुखदेव,राजगुरु,भगत सिंह सा जज्बा देश के युवाओं में भरना होंगा,

Wednesday, 8 March 2017

तारबाड में फंसा गुलदार

No comments :
खटीमा रेंज के बनबसा क्षेत्र उत्तरी कम्पाट छीनी 15 में वन सीमा से सटे गांव देवीपुरा में फंदे में फसा गुलदार। वन विभाग की टीम रेस्कूय में जुटी। गुलदार को देखने के उमड़ी ग्रामीणों की भीड़

Monday, 6 March 2017

प्रशिक्षु आई पी एस ने किया मालखाने का निरीक्षण

No comments :
खटीमा पहुंची प्रशिक्षु आई पी एस अधिकारी रचिता जुयाल ने सी ओ राजेश भट्ट की देखरेख में खटीमा थाने के मालखाने का निरीक्षण किया ,इस दौरान सी ओ ने उन्हें मालखाने से जुड़े कई दस्तावेज दिखाने के साथ ही कई बारीकियो को विस्तार से समझाया इस दौरान एस एस आई जगदीश ढकरियाल बालकृष्ण आदि मौजूद थे ,

Sunday, 5 March 2017

रंगोक त्यार - भुवन विष्ट की कुमाउनी कविता

No comments :
( रंगों का त्यौहार).   
होली के रंग अबीर से,
आओ बांटें मन का प्यार,
खुशहाली आये जग में,
है आया रंगों का त्यौहार,
रंग भरी पिचकारी से अब,
धोयें राग द्वेष का मैल,
ऊंच नीच की हो न भावना,
उड़े अबीर है लाल गुलाल,
होली के हुड़दंग में भी,
बाँटे मानवता का प्यार,
खुशहाली आये जग में,
है आया रंगों का त्यौहार,
होली के रंग अबीर से,
आओ बाँटें मन का प्यार,
गुजिया मिठाई की मिठास से,
फैले खुशियों की बहार,
आओ रंगों की पिचकारी से,
धोयें जग का अत्याचार,
होली के रंग अबीर से,
आओ बाँटें मन का प्यार,
खुशहाली आये जग मे,
है आया रंगों का त्यौहार,
बसंत बहार के रंगों से,
ओढ़े धरती है पिताम्बरी,
ईष्या राग द्वेष को त्यागें,
सींचें मानवता की क्यारी,
रूठे श्याम को भी मनायें,
रंगों से खुशियां फैलायें,
झलक एकता की दिखलायें,
रंगों और पानी से सिखें,
चहुँ दिशा में मानवता दिखें,
बहे सुख समृद्धि की धार,
खुशहाली आये जग में,
है आया रंगों का त्यौहार,
होली के रंग अबीर से ,
आओ बाँटे मन का प्यार,

होली गीतों पर थिरकीं महिलाएं

No comments :


खटीमा के शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों होली गायन की धूम मची है
ग्रामीण क्षेत्रों में जहाँ थारू समाज की महिलाओ व पुरुषों द्वारा
परम्परागत होली गायन का आनंद लिया जा रहा है वही शहरी क्षेत्र में
पर्वतीय समाज की महिलाओ व पुरुषों द्वारा बैठकी होली के चलते वातावरण
उल्लासमय हो चला है महिलाएं एक दुसरे के घरों में जाकर होली गीतों पर
नृत्य करने के साथ ही  अबीर गुलाल लगाकर बधाइयाँ दे रहीं हैं आज
सिद्धेश्वर शिव मंदिर में महिला कीर्तन मण्डली द्वारा आयोजित  होली गायन
में महिलाओ ने ढोलक व मजीरे की थाप पर  होली खेलत नन्दलाल मथुरा की कुंज
गलिन में ,जल कैसे भरूं जमुना गहरी,होली खेलें गिरिजापति नंदन आदि के
गायन के साथ ही मनमोहक नृत्य के जरिये शमा बाँध दिया इस दौरान शांति
पाण्डेय अंजू भट्ट कुसुम पाण्डेय मुन्नी ओझा प्रेमा तिवारी मीना जोशी
जानकी जोशी गंगा पाण्डेय मुन्नी कांडपाल मीरा चन्द कृष्णा नेगी पुष्पा
धपोला रश्मि कापड़ी रीता जोशी सरिता पाण्डेय नीरू सत्वाल गायत्री जोशी
शांति पन्त कमला लोहनी कंचन चन्द वीना पांडे कविता आदि मौजूद थे

कुमाउनी सम्पन्नता के अवशेष - पूरन सिंह कार्की

1 comment :
वर्तमान कुमाऊंनी पीढ़ी को अपने अतीत की ओर झांकने में तनिक भी रूचि नहीं है। जब देश के अन्य भागों में सभ्यता व संस्कृति का विकास हो रहा था, कस्बे व नगर बस रहे थे, उस समय कुमाऊंनी पुरखे पहाड़ के एक बड़े भाग पर निश्छलवादियों में बसे हुए थे तथा कुछ अन्यत्र निश्चित क्षेत्रों में यत्र तत्र आकर बसने लगे थे। यूं तो कुमाऊं में आक्रमणकारियों ने अनेक बार विध्वंस किये परन्तु हमारे बुद्धिमान, दूरदर्शी व सामरिक दृष्टि से जागरूक पूर्वजों ने अपनी कला, स्थापत्य का जो रूप प्रस्तुत किया था उसके खण्डहर व अवशेष या तो वीरान हो गये हैं या फिर आज कहीं-कहीं कुमाऊं के दुर्गम स्थानों में देखे जा सकते हैं। ये याद दिलाते हैं कुमाऊं के एकदा सम्पन्न अतीत का-जब कुमाऊं पश्चिमी भाग से आने वाले प्रवासी हम वतनों, पूर्वोत्तर व पश्चिमोत्तर से हमारे पड़ोसी देशों से समय-समय पर पिछली अनेकांे शताब्दियों में आने वाले लोगों की युद्धस्थली बना।

तब मध्ययुगीन परंपरा प्रणाली से लड़े जाने वाले युद्धों में बल्लम, तलवार, खुकरी, पाटल, डागर तथा हल्के पैने देहाती शस्त्रों का प्रयोग होता था। इन हमलों से रक्षा करने के लिए तत्कालीन कुमाऊंनी शासकों, राजाओं, जमीदारों आदि ने किले बनवाये थे। कुमाऊं में पहले 2500 वर्ष ईसापूर्व पुरूषवंशीय राजाओं का राज था।

उदाहरण के लिए वैराटनगर (वैरा पट्टन) में जिसके बारे में कहा जाता है कि यह रामनगर का प्राचीन नाम था। कुरूवंश के राजाओं का यहां पर राज था, कत्यूरी शासक कुरूवंश के राजाओं के बाद यहां पर आये। उधर पाली परगना जिसे कभी पहाड़ की सम्पन्नता के लिए जाना जाता था, राजस्थान के चित्तौरगढ़ से भाग कर आये लोगों द्वारा बसा था।

पाली के कत्यूरवंश का शासक ही पाली का अंतिम शासक था। चंद शासकों ने इस राजा को हराया, और स्वयं शासक बन गये। कत्यूरियों को यहां से भाग कर जाना पड़ा। बारामण्डल में 12 मण्डल थे और 12 मण्डलिक राजा यहां पर रहते व राज करते थे। ये मण्डल राजाओं के आपसी युद्धों में एक दूसरे के पास जाते रहे। बारामंडल के कुछ इलाकों में कत्यूरी राजा बैचल देव या बैजलदेव ने भी राज किया था।

अल्मोड़ा के पास खगराकोट का किला है। यहां पर इस राजा का महल था। चंदों ने इस राजा को लड़ाई में हराया और बारामंडल छीन लिया। शासन को सुगम तरीके से चलाने के लिए राजाओं ने अपनी राजधानी सुरक्षित स्थानों पर बनायी ताकि उनके, किलों के भीतर राजशी (शाही) परिवारों की सुरक्षा हो सके। कत्यूरी राजाओं ने अस्कोट में प्राचीन राजधानी बनायी थी। यहां लखनपुर कोट में कत्यूरी रहते थे। अब केवल स्मारक बनकर रह गया है। इसी के पास बगड़ी नामक बाजार भी अब नहीं रही। राजाओं द्वारा कई परगनों व पट्टियों में किले बनाये गये।

कत्यूरी राजाओं ने फल्दाकोट परगने में भी राज किया था। यहां फल्दाकोट को किला है। किसी जमाने में परगना धनियाकोट में बहुत किले हुआ करते थे। समय ने करवट बदली। पुराना सब मिट गया। इनमें से कई कोट व किले जैसे तल्लाकोट, मल्लाकोट, मजकोट, बुधलाकोट, में गांव बस गये हैं।

दानपुर में शुभगढ़ में भगवती ने शुंभ-निशुंभ दैत्यों को हराया और मारा था। शुभगढ़ नामक गांव में शुभ देव के किले पर दैत्य देवी जी से लड़े थे। किले हमारे कुमाऊंनी शासकों के जन व धन की भी रक्षा करते थे। कत्यूरी सम्पन्न शासक थे। वे गोपालकोट तथा रणचुला किले में अपना खजाना रखते थे। चंद शासक तो अपनी सेना भी इन्ही किलों में रखते थे। रणचुला तो नाममात्र को है भी लेकिन गोपाल कोट का किला पिछली शताब्दी में ही नष्ट हो चला था। वहां पर केवल पहाड़ ही रह गया। स्यूनरा में स्यूनकोट का किला ऊँचे टीले पर बना हुआ था। ऐसे ही तिखौन कोट में एक चोटी पर किला था-चंद शासकों ने इसे जीतने के लिए आक्रमण किया लेकिन वे आगे सफल नहीं हुए और पराजित होकर लौट गये। कोटा के पास शीतेश्वर में तीन गढ थे। कमोला, धमोला में भी कभी राजा रहे होंगे क्योंकि वहां जीर्ण-क्षीर्ण इमारतें पिछली शताब्दी तक थीं। तराई में भी कुमाऊंनी राजाओं ने अपने किले बनाये। कत्यूरियों के जमाने के खण्डहर तराई में आज भी जमीन में दबे हुए हो सकते हैं। सन् 1489 में राजा ने एक किला बनवाया। इसका नाम कीर्तिपुर रखा गया था। इधर शिवालिक श्रेणियों की तलहटी में काठगोदाम से दक्षिण पूर्व की ओर टनकपुर को जाती पर्वत श्रृंखला में कुछ दूरी पर गौलापार के ऊँचे टीले में मध्यम अक्षांश पर राजा विजय चंद कुमाऊं के राजा की गढ़ी थी।

17वीं शताब्दी में 1625 ई. को यह राजा विजय चंद संग्राम सिंह कार्की पीरू गुसाई व विनायक भट्ट द्वारा मार डाले गये। उनकी गढ़ी वीरान हो गयी। इस स्थान पर वर्तमान में बिजेपुर गांव बसा हुआ है। 17वीं शताब्दी के आरम्भिक वर्षो में राजा दिलीप चंद (1621-24) के सोर के बन्दोबस्ती अधिकारी पीरू गुसाई ने एक रमणीक जगह पर पिथौरागढ़ किला बनवाया था। गढ़ या किले का यह जीता जागता नाम वर्तमान पिथौरागढ़ नाम से आज भी विद्यमान है। ंचंपावत में 1000 वर्ष पुराना राजबुंगे का किला स्थापत्य कला का बेजोड़ नमूना था। 1999 में यह प्राचीन स्मारक ढह गया। ऐसे ही और भी अनेक किले व कोट हैं जिनके बारे में लिखना कठिन है।

अब मैं बाजारों व हाटों की ओर लौटता हूँ। बीर भट्टी में एक मनोरम बस्ती थी,  लगभग 200 वर्ष पहले पहाड़ टृट जाने पर यह उजड़ गयी। अब नयी बस्ती पुरानी जैसी नहीं है। चंद राजाओं के समय से रानीबाग के पास गुलाबघाटी के पश्चिम में शीतला देवी की पावनस्थली है। यहां पर चंद राजाओं के समय में शीतलाहाट बाजार था। गोरखों ने जब कुमाऊं में तहस-नहस आंरभ किया तो यहां की बाजार को भी उजाड़ दिया था। लखनपुर के पास गिवाड़पट्टी में कलिरोहाट नामक बाजार था। यह भी समय की भंैट चढ़ गया। हल्द्वानी में मंगलपड़ाव में मंगल के दिन बाजार लगती थी। तथा दूर-दूर का व्यापारी वर्ग व क्रेता दिखाई देते थे।

आज सभी दिन बाजार के हो गये हैं। हल्द्वानी अपने आप में पूरे कुमाऊं का सबसे बड़ा जीता जागता दैनिक बाजार है। इसकी माटी में भी आज अनेकों पुराने भवन खण्डहर होते जा रहे हैं। ऐसे ही और भी अनेक रूपों में हमारा अतीत खोया व बिखरा या सदा के लिए अज्ञात गर्भ में चिल्लापुकार कर हमारी आंखों के संपर्क में आने से पहले ही ओझल हो चुका है।

मैथ्स ओलंपियाड में नोजगे का जलवा

No comments :
     खटीमा के
 नोजगे पब्लिक स्कूल के छात्र-छात्राओ ने एस0ओ0एफ0 द्वारा अयोजित 10 इण्टरनेशंल मेथस ओल्मपियाड में हर्षित पाण्डे कक्षा 3,जसकिरण कक्षा 4, विवेक महरा कक्षा 6 , निकिता अग्रवाल कक्षा 10 , खडक चन्द कक्षा 11 वी ने गोल्ड मेडल तथा अदित्य सिघ्ंाल कक्षा 3 , ईशान टंडन कक्षा 4, नितिन सिहं कक्षा 6,शुभम कुमार कक्षा 11 ने सिल्वर मेडल तथा आकार राना कक्षा 3, भूमि बिष्ट कक्षा 4, कृतिकाश्री कक्षा 6, कमल सिहं फिकवाल कक्षा 11 ने ब्रान्ज मेडल जीत कर विघालय का नाम रोशन किया जिसमे से सभी गोल्ड मेडल जीतने वाले छात्रो ने द्वितीय स्तर पर (नेशंनल लेवर) पर प्रतिभाग किया। उनकी इस सफलता पर विद्यालय की प्रबन्धिका ट्व्किलं दत्ता , एकेडिमिक आफिसर डा0 विनय जैन , डायरेक्टर नूपुर दत्त सिन्हा , रेनू दत्ता एंव गीतांजली कन्याल , मीना मालकानी , प्रेमा कन्याल , किरन अग्रवाल , अवनिश भटनागर एंव समस्त स्टाफ ने बाधाई दी तथा उज्जवल भविष्य की कामना की ।

खटीमा की दुकानों में खाद्य विभाग की छापेमारी

No comments :
खटीमा। होली पर्व के चलते खाद्य विभाग ने ग्रामीण व नगर मे अभियान चलते हुए मिठाईयों की दुकानों में छापा मारा। छापेमारी के दौरान खाद्य विभाग ने दूध व वर्फी की सैम्पल लिया। तथा पांच किलो बासी मिठाई को नष्ट कराया। षनिवार को खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजय तिवारी ने होली पर्व के चलते नगर में बिकने वाले नकली मावा, पनीर व बासी मिठाईयों की बिक्री रोकने को लेकर नगर  व ग्रामीण क्षेत्रों मे स्थित लगभग एक दर्जन मिठाईयों की दुकानों में छापामारा। छापे के दौरान अरोडा मार्केट से अमूल गोल्ड दूध व झनकईया स्थित मदन सिंह की मिठाई की दुकान से बर्फी का सैम्पल लिया। नगर की कई दुकानों में कोल्ड ड्रिंक, रियल जूस एक्सपायरी मिलने पर दुकानों की फटकार लगाते हुए नष्ट कर दिया। वही ग्रामीण क्षेत्र सत्रहमील मे ष्यामलाल की मिठाई की दुकान मे बासी मिठाई मिलने पर दुकान स्वामी को जमकर फटकार लगाते हुए मिठाई को नष्ट कराया। तथा जमौर मे दो मिठाई दुकान स्वामियों को साफ सफाई को लेकर नोटिस दिया। जमौर मे ही बिना लाईसेंन्स की चल रही मिठाई दुकान स्वामी महबूब को फटकार लगाते हुए एक सप्ताह मे लाईसेंन्स बनवाने के निर्देष देते हुए दुकान मे साफ-सफाई रखने की हिदायत दी। मिठाईयों की दुकानों में छापामारी के चलते दुकान स्वामियों में हड़कम्प मचा रहा। छापामारी की सूचना लगते ही दुकानदारों ने खुले में रखी जलेबी, समोसे व मिठाईयों को पन्नियों से ढक लिया। खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजय तिवारी ने बताया कि मिठाईयों की दुकानों में छापामारी के दौरान पांच किलो बासी मिठाईयां नष्ट की गई है। तथा दो दुकानो से दूध व बर्फी के सैम्पल लेकर जांच के लिए रूद्रपुर स्थित लैंब भेजे गये है। व 6 दुकान स्वामियों को साफ-सफाई न रखने पर नोटिस जारी किया गया है। उन्होंने कहा नकली मावा, पनीर व बासी मिठाईयां बेचने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। तथा छापामारी का अभियान आगे भी जारी रहेगा।


11 मार्च को आयेंगे नतीजे

No comments :
उत्तरखंड विधानसभा की गिनती 11 मार्च को सुबह 8 बजे से प्रारंभ होगी, जिसमे जनपद उधम सिंह नगर की सभी सीटों की गिनती रुद्रपुर में की जाएगी