देवभूमि का मर्म

"खटीमा (उत्तराखंड) से प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र"


BREAKING NEWS:-हमारी वेबसाइट पर विज्ञापन देने हेतु संपर्क करें 9719069776

Games

Thursday, 6 October 2022

कमजोर दिल वाले न देखें, तस्वीर विचलित कर सकती है, नानकमत्ता के गाँव में गुलदार ने बालिका को बनाया निवाला, मिला क्षत विक्षत शव

No comments :
धम सिंह नगर जिले के नानकमत्ता में गुलदार ने 10 साल की बालिका को मार डाला। ग्रामीणों ने बालिका का शव गन्ने के खेत से बरामद किया है। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पंचायतनामे की कार्यवाही की है। मासूम की मौत के बाद परिवार में कोहराम मच गया वहीं इलाके में दहशत फैल गई।जानकारी देते हुए प्रतापपुर चौकी इंचार्ज विजेंदर कुमार ने बताया कि गुरुवार की शाम वासुदेव जोशी की 10 साल की बेटी आनंदी जोशी निवासी लगभग 5 बजे चेतुआखेड़ा देवीपुर डेम पार अचानक लापता हो गई। बेटी लापता होने पर परिजन उसे खोजते रहे लेकिन वह कही नहीं मिली। धीरे-धीरे खबर पूरे गांव में फैल गई। इसके बाद ग्रामीणों ने खेतों में खोजबीन की तो गन्ने के खेत से गुलदार की गुर्राहट की आवाजें आने पर ग्रामीणों ने घेराबंदी कर दी। जैसे ही ग्रामीण गन्ने के खेत में घुसे तो वहां बालिका का क्षत-विक्षत शव बरामद हुआ। ग्रामीणों आहट सुनकर गुलदार जंगल की तरफ भाग गया।प्रधान रमेश यादव ने बालिका का गन्ने के खेत में शव मिलने की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर की टीम और पुलिस पहुंच गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए खटीमा भेज दिया है। बालिका के शरीर पर पंजों के निशान हैं। जिससे पता चल रहा है कि तेंदुए के हमले में बालिका की मौत हुई है। बालिका के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। ग्रामीणों ने पीड़ित परिवार को मुआवजा देने के साथ गुलदार को आदमखोर घोषित कर मारने की मांग की है।

थाईलैंड में बच्चों के डे-केयर सेंटर में गोलीबारी, 22 बच्चों समेत 34 की मौत

No comments :
थाईलैंड में गुरुवार को एक डे-केयर सेंटर में एक पूर्व पुलिसकर्मी द्वारा की गई गोलीबारी में 34  लोगों की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि हमलावर ने खुद को गोली मारने से पहले अपनी पत्नी और बच्चे को भी मार डाला.   इस घटना से थाईलैंड के लोग दहशत में हैं.

22 बच्चों की मौत का कारण बनने वाले इस पूर्व पुलिसकर्मी को नशीली दवाओं से संबंधित कारणों की वजह से सेवाओं से छुट्टी दे दी गई थी. जिला अधिकारी जिदापा बूनसोम ने रायटर को बताया कि जब बंदूकधारी डे-केयर में आया तो उस समय दोपहर के भोजन का समय था और लगभग 20 बच्चे केंद्र में थे.

जिदापा ने कहा कि उस व्यक्ति ने पहले आठ महीने की गर्भवती एक शिक्षिका सहित चार या पांच कर्मचारियों को गोली मारी. पहले तो लोगों को लगा कि यह आतिशबाजी है. सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए वीडियो में उत्तरपूर्वी प्रांत नोंग बुआ लम्फू के उथाई सावन शहर के केंद्र में खून से लथपथ बच्चों के शवों को ढकने वाली चादरें दिखाई दे रही हैं. रायटर अभी इन वीडियोज को प्रमाणिक नहीं कर सकता. इससे पहले पुलिस ने कहा कि शूटर की तलाश की जा रही है और एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपराधी को पकड़ने के लिए सभी एजेंसियों को सतर्क कर दिया है.
थाईलैंड में गन ऑनरशिप की दर कुछ अन्य देशों की तुलना में अधिक है. अवैध हथियार भी यहां आम हैं. बता दें कि थाईलैंड में इस तरह की बड़ी गोलीबारी की घटना कम ही होती हैं, लेकिन 2020 में भी एक प्रोपर्टी डील से नाराज सैनिक की चार स्थानों पर की गई फायरिंग में कम से कम 29 लोग मारे गए थे और 57 लोग घायल हो गए थे.

Wednesday, 5 October 2022

शांति का नोबेल पुरस्कार जीतने की रेस में दो भारतीय चल रहे आगे

No comments :
ओस्‍लो: दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित नोबेल शांति पुरस्‍कार का शुक्रवार को नार्वे की राजधानी ओस्‍लो में ऐलान किया जाएगा। रायटर्स के सर्वेक्षण के मुताबिक इस साल जिन लोगों के नाम सबसे ऊपर चल रहे हैं, उनमें भारत की फैक्‍ट चेकिंग वेबसाइट अल्‍ट न्‍यूज के संस्‍थापक प्रतीक सिन्‍हा और मोहम्‍मद जुबैर भी शामिल हैं। नोबेल शांति पुरस्‍कार के विजेता का चयन नार्वे के नोबल समिति के 5 सदस्‍यों की ओर से किया जाएगा। इन सभी पांचों सदस्‍यों की नियुक्ति नार्वे की संसद ने की है। भारत के प्रतीक सिन्‍हा और मोहम्‍मद जुबैर के अलावा विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन, म्‍यांमार की राष्‍ट्रीय एकता सरकार, बेलारूस की विपक्षी नेता सवितलाना भी शामिल हैं।
अमेरिकी पत्रिका टाइम ने प्रतीक सिन्‍हा और मोहम्‍मद जुबैर के बारे में लिखा है, 'पत्रकार प्रतीक सिन्‍हा और मोहम्‍मद जुबैर फैक्‍ट चेकिंग वेबसाइट अल्‍ट न्‍यूज के संस्‍थापक हैं। ये दोनों ही भारत में फर्जी सूचनाओं का खुलासा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। सिन्‍हा और जुबैर सुव्‍यवस्थित तरीके से सोशल मीडिया पर फैलने वाली अफवाहों और फेक न्‍यूज पर विराम लगा रहे हैं।' जुबैर को एक विवादित ट्वीट करने के आरोप में जून महीने में अरेस्‍ट किया गया था। हालांकि बाद में उन्‍हें कोर्ट से जमानत मिल गई।
नोबेल शांति पुरस्‍कार की स्‍थापना साल 1895 में स्‍वीडन के केमिस्‍ट अल्‍फ्रेड नोबेल ने किया था। अल्‍फ्रेड नोबेल ने ही डायनामाइट की खोज की थी। दुनिया में नोबेल शांति पुरस्‍कार को सबसे प्रतिष्ठित सम्‍मान माना जाता है। इस पुरस्‍कार को उस व्‍यक्ति को दिया जाता है जिसने 'मानवता के लिए सबसे हितकारी काम किया है।' पर्यावरण के लिए काम करने वाले चर्चित कार्यकर्ता ग्रेटा थर्नबर्ग भी इस पुरस्‍कार के प्रबल दावेदारों में शामिल हैं। भारत में नोबेल शांति पुरस्‍कार विजेता लोगों में मिशनरीज ऑफ चैर‍टीज की मदर टेरेसा और कैलाश सत्‍यार्थी शामिल हैं।

Saturday, 1 October 2022

कानपुर में भयानक हादसा, मंदिर से लौट रहे 25 श्रधालुओं की मौत

No comments :
यूपी के कानपुर जिले में शनिवार की देर शाम बड़ा हादसा हो गया। 40 श्रद्धालुओं से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली में तालाब में जा गिरी गई। ट्रॉली में सवार सभी श्रद्धालु तालाब के पानी में डूब गए। हादसे के बाद श्रद्धालुओं में चीख-पुकार मच गई। अब तक 25 लोगों के मरने की सूचना है जबकि दो दर्जन से अधिक घायल हैं। गंभीर हालत में कई को हैलट भेजा गया है। एसपी कानपुर आउटर समेत छह थानों की फोर्स मौके पर पहुंची। स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को तालाब से निकालकर अस्पताल भेजा जा रहा है। वहीं, मुख्यमंत्री ने हादसे पर शोक जताते हुए अफसरों को घायलों के यथोचित उपचार के निर्देश दिए हैं।कोरथा गांव निवासी राजू निषाद शनिवार को अपने एक साल के बेटे का मुंडन संस्कार कराने के लिए परिवार समेत 35-40 लोगों को लेकर बक्सर घाट उन्नाव स्थित चंद्रिका देवी मंदिर में मुंडन कराने जा रहा था। सभी लोग ट्रैक्टर ट्राली में सवार थे। शनिवार रात सभी लौट रहे थे कि तभी साढ़ और गंभीरपुर गांव के बीच ट्रैक्टर-ट्रॉली अनियंत्रित होकर तालाब में पलट गई। रात नौ बजे तक पुलिस 25 शवों को निकाल लिया था। अभी भी तालाब में तलाश जारी है।

पुलिस अधिकारियों ने हैलट समेत अन्य अस्पतालों और 108 से एम्बुलेंस के लिए बुलवाया। एक दर्जन एम्बुलेंस मौके पर पहुंची और वहां से घायलों को लेकर सीएचसी और हैलट अस्पताल भिजवाया गया।

Friday, 30 September 2022

राष्ट्रीय खेलों में चमकी खटीमा की बेटी, जीता रजत पदक

No comments :
खटीमा के टिगरी भूडाइ निवासी रेखा सिंह खाती ने गुजरात मे चल रहे 36 वे राष्ट्रीय खेलों में रजत पदक जीतकर खटीमा के साथ ही उत्तराखण्ड का भी नाम रोशन किया है।रेखा ने महिलाओ की हैमर थ्रो प्रतियोगिता में कुल 59.51 मीटर हैमर फैँक कर रजत पदक अपने नाम किया, रेखा स्पोर्ट्स कोटे के तहत रेलवे में नौकरी करती है, उनके पिता राजेंद्र सिंह खाती सेना से सूबेदार कलर्क के पद पर रिटायर्ड हैं जबकि माता मनोरमा देवी गृहणी हैं उनके भाई गोविंद सिंह भी राष्ट्रीय स्तर के खिलाडी और ऐथलेटिक्स कोच हैं।खेल की विभिन्न बारीकियाँ रेखा ने भाई से ही सीखीं हैं।रेखा की इस उपलब्धि पर खटीमा सहित पूरे उत्तराखण्ड मे खुशी का माहौल है।

Saturday, 24 September 2022

ऋतु खंडूड़ी ने उठाई राजस्व पुलिस व्यवस्था खत्म करने की मांग,मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

No comments :
उत्तराखंड के बहुचर्चित अंकिता हत्याकांड के बाद स्पीकर ऋतु खंडूरी ने लिखा मुख्यमंत्री धामी को पत्र, राजस्व पुलिस व्यवस्था समाप्त करने की उठाई मांग।
उन्होंने मांग की है कि प्रदेश में जहाँ-कहीं भी राजस्व पुलिस की व्यवस्था चली आ रही है, उन्हें तत्काल समाप्त कर सामान्य पुलिस बल के थाने / चौकी स्थापित करने की मांग की, इस विषय पर उन्होंने मुख्यमंत्री धामी  को पत्र लिखा है।
उत्तराखंड में कुल नौ पर्वतीय व चार मैदानी ज़िले हैं. ब्रिटिश राज में यहां पटवारी पुलिस यानी राजस्व पुलिस की व्यवस्था शुरू हुई थी, जिसके मुताबिक राजस्व क्षेत्रों में होने वाले हर किस्म के अपराध की जांच राजस्व पुलिस ही करती है. उत्तराखंड के सिर्फ 40 प्रतिशत हिस्से में सिविल पुलिस है और राजस्व पुलिस के क्षेत्र में बीते कुछ सालों में अपराध का ग्राफ बढ़ता रहा है. चूंकि ब्रिटिश राज में यहां अपराध बहुत कम थे इसलिए रेवेन्यू पुलिस सिस्टम बनाया गया था, जो अब प्रासंगिक नहीं रहा.

2018 में उत्तराखंड हाई कोर्ट ने इस व्यवस्था को समाप्त करने के आदेश दिए थे, लेकिन कई साल बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई है. 2013 में केदारनाथ में आपदा के समय तत्कालीन सीए विजय बहुगुणा ने कहा था कि यदि पहाड़ी इलाकों में रेगुलर पुलिस की व्यवस्था होती तो आपदा से होने वाला नुकसान कम होता. ज़रूरत तो कई बार महसूस की जा चुकी है कि रेवेन्यू पुलिस सिस्टम को खत्म किया जाए, लेकिन फिलहाल यह जस की तस बनी हुई है.

उत्तराखंड राज्य का 61 प्रतिशत हिस्सा आज भी ऐसा है, जहां न तो कोई पुलिस थाना है, न कोई पुलिस चौकी और न ही यह इलाका उत्तराखंड पुलिस के क्षेत्राधिकार में आता है। यहां आज भी अंग्रेजों की बनाई वह व्यवस्था जारी है, जहां पुलिस का काम रेवेन्यू डिपार्टमेंट के कर्मचारी और अधिकारी ही करते हैं। इस व्यवस्था को ‘राजस्व पुलिस’ कहा जाता है। उत्तराखंड के 12 हजार से अधिक गांव राजस्व पुलिस के क्षेत्र में आते हैं।
शुरूआत में गढ़वाल में 86 और कुमाऊं में 125 पटवारी क्षेत्रों में राजस्व पुलिस चौकियां थीं।

 पटवारी, लेखपाल, कानूनगो और नायब तहसीलदार जैसे कर्मचारी और अधिकारी ही यहां रेवेन्यू वसूली के साथ-साथ पुलिस का काम भी करते हैं। कोई अपराध होने पर इन्हीं लोगों को एफआईआर भी लिखनी होती है, मामले की जांच-पड़ताल भी करनी होती है और अपराधियों की गिरफ्तारी भी इन्हीं के जिम्मे है। जबकि इनमें से किसी भी काम को करने के लिए इनके पास न तो कोई संसाधन होते हैं और न ही इन्हें इसकी ट्रेनिंग मिलती है।
1861 में ब्रिटिश राज के दौरान यहां पहाड़ी ज़िलों में रेवेन्यू पुलिस सिस्टम शुरू हुआ था, जिसके तहत राजस्व अधिकारियों को पुलिस के बराबर अधिका​र ​हासिल थे और वो किसी भी केस की जांच कर सकते थे. करीब 160 साल और ब्रिटिशों से देश को आज़ादी मिलने के 73 साल बाद भी उत्तराखंड में यह व्यवस्था बनी हुई है? 

Friday, 23 September 2022

नकली सीमेंट फैक्ट्री के बाद अब नकली मोबिल ऑयल फैक्ट्री पकड़ी ऊधमसिंह नगर पुलिस ने

No comments :

 दिलीप कुमार पुत्र साहब प्रसाद सीनियर इन्वेस्टिगेशन ऑफीसर ब्रॉड  एडी एंड रिस्क मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी निवासी झंडेवालान स्टेशन नई दिल्ली जो कैस्ट्रोल ऑयल लुब्रिकेंट कंपनी  उत्पादों प्लास्टिक के मार्केट में सर्वे व नकली इंजन ऑयल बनाने व बेचने वालों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के लिए अधिकृत किया गया है के द्वारा कोतवाली बाजपुर पुलिस को सूचना दी कि बाजपुर क्षेत्र अंतर्गत रिलायंस पेट्रोल पंप के पास एक व्यक्ति शकीर कादिर सिद्धकी पुत्र कादिर सिद्धकी द्वारा अपनी दुकान पर नकली कैस्ट्रोल इंजन ऑयल को बनाने और बेचने आदि के संबंध में सूचना दी गई जिस पर बाजपुर पुलिस द्वारा उक्त दुकान पर छापेमारी की गई तो दुकान चला रहा व्यक्ति शकीर फरार हो गया दुकान खुली होने पर दुकान को चेक किए जाने पर नकली मोबिल ऑयल के 5 ड्रम 210 लीटर व 1 फुल सेट ऑयल लुब्रिकेंट मशीन, एक सेट सील मशीन, एक बोतल कलर लिक्विड, 500 पीस कैस्ट्रोल के डिब्बे, 764 पीस कैप, 15 पीस कैस्ट्रोल सीआरबी प्लस के 1 लीटर के भरे हुए, दो पीस खाली डब्बे, सीआरबी प्लस के 1 लीटर के भरे हुए, सीआरबी प्लस के 7.5 लीटर बाकेट, कैपलॉक 1530पीस, बारकोड स्केनर 787 पीस, डबल स्टीकर 207 पीस, सिंगल स्टीकर 305 पीस, कैप सील 95 पीस बरामद हुए। इस पर वादी दिलीप कुमार उपरोक्त की तहरीर पर कोतवाली बाजपुर में सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया जा रहा है।

*मीडिया सेल उधमसिंहनगर पुलिस*